नेताओं ने पैसा लेकर कब्जेदारों को बसाया बीएसपी आवासों में, एक्शन होते दलालों ने साधी चुप्पी, बेदखली के भय से व्यवस्थापन की मांग

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। भिलाई टाउनशिप में लगातार कब्जेदारों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। रिसाली सेक्टर के बाद अब सेक्टर-6 से कब्जेदारों को खदेड़ने की तैयारी है। माइक के माध्यम से लोगों अपील की जा रही है कि कब्जेदार मकान छोड़ दें, अन्यथा उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। सेक्टर-6 के कब्जेदारों ने बीएसपी प्रबंधन से मानवता बरतने की गुहार लगाई है।

भिलाई स्टील प्लांट के एरिया इंस्पेक्टर को परिवार सहित जान से मारने की धमकी देने वाले दलाल शैलेंद्र सिंह पर एफआइआर


महिला मुक्क्ति मोर्चा की नीरा डेहरिया ने बताया कि भिलाई इस्पात संयंत्र सेक्टर-6 में लगातार माइक में एलाउंस करा रहा है कि अवैध कब्जाधारी आवास खाली करें। वहां के रहवासियों का कहना है कि करीब 20 साल 17 से रहते आ रहे हैं। आधार कार्ड से लेकर राशन कार्ड इसी एड्रेस पर बना हुआ है।

भिलाई टाउनशिप में दोनों वक्त चाहिए पानी, सुबह प्रेशर बढ़ाने और शाम को आपूर्ति की मांग

बच्चों की पढ़ाई भी सेक्टर एरिया के स्कूलों में हो रही है। पूरा परिवार यहीं रच बस गया है। यहीं रहकर विधायक, संसद, पार्षद, महापौर चुनते आ रहे हैं। लेकिन आवास खाली करने का फरमान हम सबको बिना व्यवस्थापन के किया जा रहा है।

हम लोगों की भिलाई इस्पात संयंत्र से मांग है कि कोई जगह व्यवस्थापन होते तक रहने दिया जाए। वहीं, भिलाई सेक्टर इलाके कई बड़े अधिकारी,नेता कई वर्षों से कब्जा किए हुए हैं। लेकिन उन्हें खाली कराने का फरमान कभी जारी नहीं होता। हम लोगों को यहां पर बसाने में सत्ताधारी पार्टियों से संबंध रखने वाले लोगों ने पैसा लेकर किया है।

आज वह सब दलाल चुप्पी साध लिए हैं। और नेता लोग भी हाथ खड़े कर रहे हैं। अभी तक वोट लेते रहे हैं। अब संकट के समय हमारा आंसू पोछने वाला भी कोई नहीं है। हमारी पहचान अवैध कब्जेधारी के रूप में बना दी गई है।

बेदखली के बाद कहां जाएंगे बच्चे-बूढ़े

रहवासियों का कहना है कि गर्मी में हम सबको बाहर निकाल दिया जाएगा तो हम छोटे-छोटे बच्चे, बूढ़े मां-बाप को लेकर कहां जाएंगे। हम सब को कहीं व्यवस्थापन होते तक समय दिया जाए। नगर निगम और राज्य सरकार से लगातार आवास के लिए मांग कर रहे है। नीरा ने बताया कि यह सब भारत के नागरिक
हैं। निगम और सरकार का दायित्व बनता है कि इन सबको आवास दे। जब तक आवास की व्यवस्था नहीं होती है, तब तक इन्हें रहने दिया जाए।

कलेक्टोरेट पहुंचे रहवासी, सुनाया दुखड़ा

भिलाई इस्पात संयंत्र इंडिया से बाहर नहीं है। उन्हें भी मानवता का सम्मान करना होगा। कई इलाकों में सरकारी आवास बना हुआ है। वहां पर उन्हें शिफ्ट किया जाए। महिला मुक्क्ति मोर्चा ने जिलाधीश,निगम आयुक्त, बीएसपी प्रबंधन से अनुरोध किया है कि जब तक व्यस्थापन न हो जाए, तब तक न हटाया जाए। कलेक्टोरेट पहुंचने वालों में बेबी साव, मनिंदर कौर, नंदनी, बसंता, प्रियंका, शुष्मा यादव, मेहरून्निसा, उर्मिला यादव, राजेश्वरी आदि शामिल रहीं।

प्रेम प्रकाश पांडेय ने किया भिलाई टाउनशिप की विद्युत व्यवस्था को सीएसपीडीसीएल को हैंडओवर करने का विरोध, कहा-60 प्रतिशत मिलेगी महंगी बिजली और कटौती भी, नहीं मिल सकेगी 5 करोड़ की सब्सिडी, दें बिजली बिल हॉफ का लाभ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!