नई प्रमोशन पॉलिसी को लेकर ट्रेड यूनियनों में बढ़ी तकरार, एचएमएस का जुबानी हमला, कहा-बगैर लाभ कर्मचारियों की बढ़ेगी जिम्मेदारी

एचएमएस महासचिव प्रमोद कुमार मिश्र ने कहा-यह समझ से परे है कि ऐसी कौन सी समस्या या विपदा आ गई थी कि इंटक को आनन-फानन में एग्रीमेंट साइन करना पड़ा।

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। नॉन एक्जीक्यूटिव प्रमोशन पॉलिसी को लेकर ट्रेड यूनियनों में रार बढ़ता जा रहा है। बयानबाजी तेज हो गई है। इंटक द्वारा समझौता करने के बाद सीटू पहले भड़का। अब कर्मचारी यूनियन एचएमएस ने भी इंटक पर जुबानी हमला बोल दिया है।

एचएमएस का कहना है कि इंटक यूनियन भिलाई इस्पात संयंत्र में कर्मचारियों के लिए एनईपीपी नई प्रमोशन पॉलिसी को लागू करने के लिए दबाव बना रही है, जबकि इस पॉलिसी को कर्मचारी नकार चुके हैं।

ये खबर भी पढ़ें: बोकारो स्टील प्लांट के ठेका मजदूरों ने भरी हुंकार, कहा-हक लेकर रहेंगे अबकी बार

मॉडेक्स यूनिट को छोड़ सभी विभागों में विरोध हो रहा है। नई प्रमोशन पॉलिसी के रिकॉर्ड नोट पर 25 जून 2021 को इंटक ने हस्ताक्षर किया था, उस समय की परिस्थिति से सभी बीएसपी कर्मचारी परिचित हैं, क्योंकि 30 जून को इंटक को छोड़ सभी यूनियन हड़ताल की तैयारी कर रही थी।

और इंटक प्रबंधन के साथ मिलकर कर्मचारियों का जॉब स्पेसिफिकेशन बदलने एवं चार्जमैन जैसे सुपरवाइजरी पदनाम को समाप्त कर कर्मचारियों के लिए नए मापदंड का षड्यंत्र कर रही थी।

ये खबर भी पढ़ें: दुर्गापुर स्टील प्लांट के 250 से ज्यादा फ्रंटलाइन वर्करों को लगा बूस्टर डोज

महासचिव प्रमोद कुमार मिश्र का कहना है कि यह समझ से परे है कि ऐसी कौन सी समस्या या विपदा आ गई थी कि आनन-फानन में यह एग्रीमेंट साइन करना पड़ा। यूनियन उन विभागों की प्रशंसा करती है, जिन्होंने अपने विभाग में इस पॉलिसी को लागू नहीं होने दिया।

एनईपीपी में पदनाम बदलने के अलावा कोई अन्य लाभ नहीं है। किसी कर्मचारी को कोई आर्थिक लाभ नहीं मिलने वाला है और ऊपर से जिम्मेदारी का बोझ बढ़ाया गया है। यदि इसे टाउनशिप, मेडिकल एवं एजुकेशन में लागू किया जाता है तो वरिष्ठ कर्मचारी प्रभावित होंगे। यहां भी चार्जमैन, सिस्टर इंचार्ज, सेक्शन ऑफिसर, लेक्चरर, जैसे पदनाम को समाप्त करने का प्रयास किया जाएगा और जिम्मेदारी का बोझ बढ़ाया जाएगा। वैसे ही टाउनशिप हॉस्पिटल एवं स्कूलों में मैन पावर कम हैं।

ये खबर भी पढ़ें: मधुमक्खियों के झुंड ने ब्लास्ट फर्नेस पर किया हमला, हॉट मेटल प्रोडक्शन पर असर पड़ने से पहले हुआ सफाया

एचएमएस ने बताए एनईपीपी से होने वाले नुकसान

1.चार्जमैन जैसे सुपरवाइजरी पदनाम समाप्त होंगे।

  1. जो कर्मचारी वरिष्ठ होंगे, उसे मजबूरी में इंचार्ज का काम करना पड़ेगा। भले ही उसका पदनाम एसीटी या ओसीटी हो।
  2. एक्टिंग अलाउंस पूरी तरह समाप्त हो जाएगा।
  3. कर्मचारी से अधिकारी के प्रमोशन पर रोक लगेगी।
  4. कार्य के दौरान सुरक्षा नहीं रहेगी, क्योंकि चार्जमैन में ही ग्रुप लीडर होता है। साथी कर्मचारियों की सुरक्षा की जिम्मेदारी चार्जमैन पर होती है।
  5. यदि किसी कर्मचारी को बिटवीन क्लस्टर या विद इन क्लस्टर परफॉर्मेंस में सी ग्रेड दिया जाता है तो उस कर्मचारी का अगले 3 साल तक प्रमोशन नहीं होगा।
  6. किसी भी कर्मचारी का किसी भी विभाग में स्थानांतरण किया जा सकता है।
  7. हर कर्मचारी के ऊपर साफ-सफाई जैसे झाड़ू लगाने की भी जिम्मेदारी होगी, चाहे वह कितना भी वरिष्ठ हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!