रूस-यूक्रेन वार घटा रहा था बीएसपी का इस्पात उत्पादन, चार माह बाद चेकोस्लोवाकिया से आया हॉट ब्लास्ट वॉल्व, अब बढ़ेगा प्रोडक्शन

भिलाई स्टील प्लांट के ब्लास्ट फर्नेस-8 को गर्म हवा देने में इस्तेमाल होता है हॉट ब्लास्ट वॉल्व।

अज़मत अली, भिलाई। रूस-यूक्रेन वार का असर भिलाई स्टील प्लांट के हॉट मेटल प्रोडक्शन पर पड़ रहा था, अब राहत मिली है। ब्लास्ट फर्नेस-8 के खराब हो चुके हॉट ब्लास्ट वॉल्व को चेकोस्लोवाकिया से जल मार्ग से मंगाया गया है। इसे भिलाई आने में चार माह का समय लग गया।

ये खबर भी पढ़ें:  Gama Pehlwan 144th Birth Anniversary: आधा लीटर घी और छह देशी चिकन डकार जाते थे गामा पहलवान, अमृतसर में जन्म और लाहौर में हुआ था इंतकाल

पहले फ्लाइट से मंगाने का इंतजार किया जा रहा था। लेकिन युद्ध न रुकने से वॉल्व नहीं पहुंच पा रहा था। इस वजह से उत्पादन गिरता गया। बीएसपी प्रबंधन ने जल मार्ग से ही हॉट ब्लास्ट वाल्व मंगाने का फैसला किया। बताया जा रहा है कि इसकी कीमत करीब साढ़े तीन करोड़ है।

ये खबर भी पढ़ें:15 साल में सेल में बढ़ी 137% लेबर प्रोडक्टिविटी, इकाइयों में बर्नपुर सबसे छोटी, लेकिन आंकड़े में टॉप पर, बोकारो दूसरे, बीएसपी तीसरे, राउरकेला चौथे और दुर्गापुर 5वें स्थान पर

भिलाई स्टील प्लांट के ब्लास्ट फर्नेस-8 महामाया की उत्पादन क्षमता 8400 टन की है। सितंबर 2020 में सर्वाधिक 9150 टन हॉट मेटल का उत्पादन हुआ था। इसके बाद उत्पादन का ग्राफ गिरता ही गया था। पिछले दिनों करीब साढ़े छह से सात हजार टन तक ही उत्पादन हो रहा था।

ये खबर भी पढ़ें:डायरेक्टर इंचार्ज-11 से हंसी-खुशी हार गया ओए-11, टहलते-टहलते ज्यादातर ईडी ने जुटाए रन, क्या था टोटल स्कोर किसी को पता नहीं, देखिए मैच की तस्वीरें

बताया जा रहा है कि फर्नेस को हॉट ब्लास्ट वाल्व से गर्म हवा मिलती है, लेकिन फरवरी में इसमें खामी आ गई। उत्पादन का प्रेशर नहीं बढ़ाया जा रहा था। फर्नेस को नुकसानी से बचाने के लिए इसे लो-प्रेशर पर ही चलाया जा रहा था। रूस-यूक्रेन वार की वजह से स्पेयर पार्ट्स भारत नहीं आ पा रहा था।

ये खबर भी पढ़ें:1600 कर्मचारियों को भारतीय रेलवे दे रहा पांच से सात दिन की छुट्‌टी व स्पेशल पास, जानिए पूरा मामला

दो हॉट ब्लास्ट वॉल्व की जरूरत थी। विशाखापट्‌टनम और महाराष्ट्र के सतारा से भी मंगाने की कोशिश की गई, लेकिन वहां उपलब्ध न होने से इंतजार ही करना पड़ रहा था। फर्नेस-8 को करीब पांच दिनों तक शट-डाउन पर लेकर हॉट ब्लास्ट वॉल्व को चेंज किया गया। अब उत्पादन की रफ्तार बढ़नी शुरू हो रही है।

फर्नेस-8 का था 60 फीसद ही उत्पादन

ब्लास्ट फर्नेस के जिम्मेदारों का कहना है कि हॉट फर्नेस वॉल्व की खराबी की वजह से उत्पादन तेजी से घट रहा था। करीब 60 फीसद ही हॉट मेटल का उत्पादन हो रहा था। वाल्व लगने बाद पूरी क्षमता से उत्पादन हो रहा है। खराबी की वजह से फर्नेस का प्रेशर नहीं बढ़ा पा रहे थे। गर्मी में अधिक प्रोडक्शन पर जोर रहता है। ऐन वक्त पर दिक्कत आ गई थी। फर्नेस-7 भी कैपिटल रिपेयर पर है। इसका उत्पादन बहाल होने में करीब दो माह और लगेगा। बता दें कि फर्नेस-1, 4, 5, 6 और 8 का उत्पादन बहाल है।

ये खबर भी पढ़ें:NTPC Financial Result 2022: एनटीपीसी ने 15% लगाई उत्पादन में छलांग, आय में 16.83% का इजाफा, फरवरी में दिया था 40 फीसद लाभांश

जानिए बीएसपी का हॉट मेटल प्रोडक्शन

21 मई: 16239 टन
20 मई: 12124
19 मई: 9030
18 मई: 9039
17 मई: 8613
16 मई: 8803
15 मई: 9012
14 मई: 14011
13 मई: 16070

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!