SAIL Bonus Formula: 5 साल के पीबीटी, मुनाफा, बोनस, महंगाई भत्ता और 70% प्रोडक्शन के औसत पर मिलेगा बोनस, रिकवरी का भी प्रावधान

0
SAIL Bonus Formula
दावा किया जा रहा है कि सेल बोनस तय करने के लिए प्रबंधन की तरफ से फॉर्मूला तैयार किया गया है। सोशल मीडिया पर फॉर्मूले की कॉपी वायरल हो रही।
AD DESCRIPTION

दावा किया जा रहा है कि सेल बोनस तय करने के लिए प्रबंधन की तरफ से फॉर्मूला तैयार किया गया है। सोशल मीडिया पर फॉर्मूले की कॉपी वायरल हो रही।

अज़मत अली, भिलाई। स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड-सेल के कर्मचारियों का बोनस फॉर्मूला बना लिए जाने का दावा किया गया है। इसे 10 अक्टूबर को होनी वाली बोनस मीटिंग में पेश किया जाएगा। सोशल मीडिया पर फॉर्मूले की कॉपी तेजी से शेयर की जा रही है। किसी यूनियन की तरफ से अब तक आधिकारिक रूप से इस पर कोई बयान नहीं आया है। लेकिन सोशल मीडिया पर सेल कर्मचारियों ने इस फॉर्मूले की बखिया उधेड़ दी है। खामियों को गिनाना शुरू कर दिया है। फॉर्मूले और प्रबंधन की सोच के खिलाफ गुस्सा उतारा जा रहा है।

ये खबर भी पढ़ें… भिलाई सिविक सेंटर चौपाटी में कब्जेदारों के सामान जब्त, कई सेक्टर के कुछ मकान कब्जा मुक्त

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

सेल कर्मचारियों के मुताबिक बोनस फॉर्मूला पांच साल के लिए बनाया गया है। जबकि प्रॉफिट हर साल का अलग-अलग होता है। प्रबंधन ने बोनस तय करने के लिए पांच साल के पीबीटी, मुनाफा, बोनस, महंगाई भत्ता का औसत निकालने और 70 प्रतिशत प्रोडक्शन लक्ष्य पूरा करने व 30 प्रतिशत पीबीटी को ध्यान में रखकर हिसाब लगाएगा।

ये खबर भी पढ़ें…SAIL कार्मिक राउरकेला स्टील प्लांट में और उनकी बेटियां खेल के मैदान में मचा रहीं तहलका…              

बोनस की जो राशि तय की जाएगी, उसे दो किस्तों में दिया जाएगा। एडवांस के रूप में राशि दी जाएगी। मार्च में वित्तीय वर्ष समाप्त होने के बाद प्रोडक्शन का फाइनल रिजल्ट आने पर अगर, उत्पादन कम रहा तो कर्मचारियों को पहले दी जा चुकी राशि में से रिकवरी की जाएगी।

ये खबर भी पढ़ें…राउरकेला स्टील प्लांट ने क्रूड टार में बनाया रिकॉर्ड, कोल केमिकल की बिक्री से 56 करोड़ की कमाई, प्रबंधन ने खिलाई मिठाई

कर्मचारियों का कहना है कि इस बोनस फॉर्मूले से हर किसी को नुकसान है। देश की सभी कंपनियों में पिछले साल के परफॉर्मेंस पर बोनस दिया जाता है। सेल में ही उलझाऊ फॉर्मूला तैयार किया गया है। फॉर्मूले में कहा गया है कि मार्च में रिव्यू किया जाएगा, अगर, प्रोडक्शन सही नहीं आया तो रिकवरी की जाएगी।

ये खबर भी पढ़ें…भिलाई स्टील प्लांट के 8 होनहार कार्मिक बने कर्म शिरोमणि, जानिए नाम

कर्मचारियों ने प्रबंधन की सोच पर सवाल उठाया है। सोशल मीडिया पर कहा जा रहा है कि एक्सपांशन प्रोजेक्ट आ रहा है। ऐसे में लक्ष्य बढ़ा दिया जाएगा। उत्पादन का औसत खुद-ब-खुद कम हो जाएगा। कर्मचारियों को इसी फॉर्मूले में फंसाकर कम राशि में निपटाया जा सकेगा।

ये खबर भी पढ़ें…शेयर मार्केट: सेल, कोल इंडिया, जेएसडब्ल्यू और अडानी ग्रुप के शेयर ने लगाई लंबी छलांग, कमाई का बेहरीन मौका

रिकवरी तक आसानी से हो सकेगी, क्योंकि एग्रीमेंट हो चुका होगा। सेल कर्मचारियों का कहना है कि इस तरह के तनावपूर्ण बोनस फॉर्मूले की जरूरत ही नहीं है। सीधा फॉर्मूला प्रोडक्शन और प्रॉफिट का ही है। इन्हीं दोनों पर फॉर्मूला बनाया जाए। पिछले साल के प्रोडक्शन और प्रॉफिट के आधार पर फॉर्मूला बनाकर बोनस की राशि दी जाए।

ये खबर भी पढ़ें…रेफरी की सीटी लेकर महिला कबड्डी खिलाड़ियों के बीच पहुंचे भूपेश बघेल, लंगड़ी, भौंरा, कंचा और पिट्ठुल पर आजमाया हाथ

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here