SAIL Bonus Meeting Update: सेल बोनस की तीसरी बैठक बेनतीजा समाप्त, संयुक्त आंदोलन का ऐलान

0
दिल्ली के एक होटल और कारपोरेट आफिस में सेल प्रबंधन और इंटक, सीटू, एचएमएस, एटक और बीएमएस के पदाधिकारियों के बीच वार्ता समाप्त हो गई है।
AD DESCRIPTION

सेल प्रबंधन के बोनस फॉर्मूले पर चर्चा से पहले ही खारिज, अगली बार के लिए बनेगा फॉमूला, 45 हजार पर बात फंसी

अज़मत अली, भिलाई। सेल बोनस को लेकर बड़ी खबर आ रही है। बेनतीजा ही बैठक समाप्त हो गई है। यूनियन और प्रबंधन के बीच कोई फैसला नहीं हो सका है। प्रबंधनने 28 हजार बोनस और 1400 रुपए परफार्मेंस अवॉर्ड का आफर दिया। यूनियन ने 44 हजार से कम में बोनस स्वीकार न करने का फैसला किया है। दोनों पक्षों के बीच सहमति नहीं बन सकी है। इस वजह से बैठक को समाप्त कर दिया गया है। सीटू के ललित मोहन मिश्र का कहना है कि प्रबंधन अपनी जिद पर अड़ा है। कर्मचारियों को उनका हक देने के लिए वह बड़ा दिल नहीं दिखा रहा है। इसलिए यूनियन ने संयुक्त रूप से फैसला लिया है कि बड़ा आंदोलन प्लांट स्तर पर शुरू किया जाएगा। इसकी रणनीति जल्द ही घोषित की जाएगी।

बता दें कि सुबह साढ़े 11 बजे के बाद होटल में बैठक शुरू हुई थी, जो शाम सात बजे तक बेनतीजा ही समाप्त हो गई। इसके बाद सेल कारपोरेट आफिस में मीटिंग की गई, वहां भी कोई फैसला नहीं हो सका है। सेल बोनस की पहली बैठक 19 सितंबर, दूसरी बैठक 24 सितंबर और तीसरी 10 अक्टूबर को हुई। प्रबंधन की ओर से अंतिम प्रस्ताव 28000 बोनस तथा 28000 का 5% अर्थात 1400 रिवार्ड कुल 29400 का प्रस्ताव दिया गया है। यूनियनों की ओर से अंतिम प्रस्ताव 44000 दिया गया। कोई सहमति नहीं बन पाई। यूनियनों ने कोई अगली तारीख की मांग नहीं की।

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

प्रबंधन ने दो पार्ट में पेमेंट करने की बात कही। यूनियन ने बोनस फॉर्मूला बनाने और 44 हजार से कम में राशि नहीं लेने की बात बोल दी है। सेल बोनस को लेकर अब तक कोई फैसला नहीं हो सका है। सेल प्रबंधन के बोनस फॉर्मला को यूनियन नेताओं ने खारिज कर दिया है। पांचों यूनियन ने एकजुटता दिखाते हुए बोनस फॉर्मूले को स्वीकार करने से मना कर दिया है। प्रबंधन के सामने 45 हजार रुपए की बात पहले की, फिर एक हजार रुपए घटाकर इसे 44 हजार किया गया।

बोनस मीटिंग में यूनियन नेताओं की तरफ से कहा गया कि सेल प्रबंधन का फॉर्मूला कर्मचारी हित में नहीं है। इसलिए इसे कोई भी स्वीकार नहीं कर सकता है। दुर्गा पूजा से पहले बोनस की मांग की गई थी, लेकिन प्रबंधन ने ऐसा नहीं किया। अब दीपावली से पहले बोनस की राशि भुगतान की जाएगी ताकि कर्मचारी त्योहार मना सकें। सेल के प्रस्तावित बोनस फॉर्मूला में अनगिनत खामियां हैं। इसलिए इसमें संसोधन करके अगले साल के लिए तैयार कर लिया जाए, ताकि अगले वर्ष समस्या समाधान हो जाए।

दिल्ली स्थित एक होटल में सुबह साढ़े 11 बजे से बैठक शुरू होनी थी, लेकिन तय समय से देरी से चर्चा शुरू हो सकी। इंटक, सीटू, एचएमएस, एटक और बीएमएस के दो-दो प्रतिनिधि शामिल हुए हैं। बैठक में इंटक से संजीवा रेड्‌डी, बीएन चौबे, सीटू से ललित मोहन मिश्र, बिश्वरूप बनर्जी, एटक के डी आदिनारायण व रामाश्रय प्रसाद, एचएमएस के राजेंद्र सिंह, संजव वढावकर, बीएमएस के डीके पांडेय, रंजय कुमार शामिल हैं।

ये खबर भी पढ़ें…भिलाई स्टील प्लांट के कर्मचारियों-अधिकारियों में 2 करोड़ों से ज्यादा का बंटवारा 10 से

मीटिंग से पहले यूनियन का दावा, रविवार की बातें

सीटू और एचएमएस ने प्रबंधन के रवैये को देखते हुए नहले पे दहला चल दिया है। बोनस फॉमूले को संज्ञान में लेकर दोनों यूनियन ने स्पष्ट कर दिया है कि अब बोनस की बातचीत 55 हजार से शुरू होगी। 45 हजार रुपए दुर्गा पूजा से पहले के लिए था। उसी पर हम सब राजी थे। लेकिन प्रबंधन ने बातचीत को नजर-अंदाज कर नया फॉर्मूला पेश कर दिया, जिसको देखते हुए अब यूनियनों को भी कर्मचारी हित में नया दांव खेलना पड़ा है।

ये खबर भी पढ़ें…बोनस पर भिलाई में बवाल करने की तैयारी, युवा कर्मचारियों ने एनजेसीएस नेताओं को दी चेतावनी, कहा-45 हजार से कम में किया साइन तो खैर नहीं…

एचएमएस बोकारो के महामंत्री राजेंद्र सिंह का कहना है कि बोनस मीटिंग में सीनियर लीडर संजय वढावकर भी शामिल होंगे। प्रबंधन ने कर्मचारियों को नुकसान कराने वाला फॉर्मूला पेश किया है, जिसे कोई भी स्वीकार नहीं करेगा। अब बात 55 से शुरू होगी।

ये खबर भी पढ़ें…Share Market News: कम समय में ज्यादा पैसा कमाने का फॉर्मूला, शेयर मार्केट में तरक्की की कुंजी ग्राफ रीडिंग और पैटर्न

सीटू के ललित मोहन मिश्र ने भी दो-टूक बोल दिया है कि अब नई बात शुरू होगी। 55 हजार रुपए की डिमांड होगी। 45 हजार रुपए तो तत्काल खातों में डालने की मांग की जाएगी और शेष राशि एग्रीमेंट के तहत ली जाएगी। कर्मचारियों की भावनाओं से खिलवाड़ करने नहीं दिया जाएगा।

ये खबर भी पढ़ें…सेल बोनस फॉर्मूला अब आया टेबल पर, ईडी पीएंडए ने सात यूनियन नेताओं को थमाई कॉपी, दुर्गापुर में बगावत

बोकारो इंटक के महामंत्री बीएन चौबे भी भड़के हुए हैं। बोनस मीटिंग में वाक्य युद्ध होना तय है। उन्होंने कहा कि कंपनी को कमाई हुई है तो उसका अंश देने में क्या दिक्कत है। मीटिंग से पहले सभी यूनियन के पदाधिकारी आपस में मंथन करेंगे और एकमत से बात रखेंगे।

ये खबर भी पढ़ें…SAIL में बोनस का उड़ता कबूतर, एक ही शिगूफा से फीडबैक आया तड़ातड़

दूसरी ओर बीएमएस के उद्योग प्रभारी डीके पांडेय बोकारेा के रंजय कुमार के साथ दिल्ली पहुंच चुके हैं। डीके पांडेय का कहना है कि हमारा कोई स्टैंड नहीं है। जिन्होंने विरोध-प्रदर्शन किया है, अब उनके स्टैंड की बारी है। हम प्रबंधन से बातचीत पर विश्वास रख रहे हैं। कर्मचारियों को अधिक से अधिक बोनस दिलाने की हर कोशिश में मेरा सहयोग रहेगा। मैं साथ रहूंगा। वैसे, पीबीटी के 5 प्रतिशत पर पहले भी मांग थी, अब भी है।

ये खबर भी पढ़ें…. SAIL-BSP गैस कांड बरसी: एक धमाके से 23 झुलसे और 14 ने गंवाई थी जान, CEO एम. रवि हुए थे सस्पेंड, आज तक दबी है जांच रिपोर्ट…

खबर अपडेट की जा रही है…

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here