SAIL Bonus: कंपनी ने कहा-कर्ज लेकर प्लांट चला रहे और सैलरी दे रहे, इसलिए ज्यादा बोनस नहीं दे सकते, पांचों यूनियन की 12 को वीडियो कांफ्रेंसिंग

0
hms rajendra singh
इंटक, सीटू, एटक, एचएमएस और बीएमएस के पदाधिकारियों की वीडियो कांफ्रेंसिंग में संयुक्त आंदोलन की रूपरेखा तय की जाएगी।
AD DESCRIPTION

एचएमएस के राजेंद्र सिंह का गुस्सा सातवें आसमान पर है। सूचनाजी.कॉम से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि प्रबंधन कर्ज की बात बोलकर 44 हजार रुपए बोनस देने से इन्कार कर दिया है।

अज़मत अली, भिलाई। सेल बोनस को लेकर चल रहा विवाद अब और गहरा गया है। लगातार तीसरी बोनस मीटिंग बेनतीजा ही समाप्त हो गई है। स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड-सेल ने स्पष्ट रूप से बोल दिया है कि कंपनी पर बैंक का कर्ज बढ़ता जा रहा है। लोन लेकर प्लांट चला रहे हैं और सैलरी दे रहे हैं। ऐसी स्थिति में ज्यादा बोनस नहीं दे सकते हैं। सुबह से लेकर शाम तक सेल प्रबंधन की बातों को सुनने और कर्मचारियों की तरफ से पक्ष रखने वालों में शामिल एचएमएस के राजेंद्र सिंह का गुस्सा सातवें आसमान पर है।

ये खबर भी पढ़े… BSP QR Code: भिलाई स्टील प्लांट में ट्रायल सफल, सभी गेट पर एक साथ अनिवार्य, गाड़ियों पर लगाएं क्यूआर कोड, वरना नहीं जा सकेंगे ड्यूटी

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

सूचनाजी.कॉम से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि प्रबंधन कर्ज की बात बोलकर 44 हजार रुपए बोनस देने से इन्कार कर दिया है। प्रबंधन का कहना है कि मेरे पास पैसा नहीं है…। कर्ज लेकर प्लांट चला रहे, पेमेंट भी बैंक से लोन लेकर कर रहे हैं। कर्ज बढ़ता जा रहा है। इसलिए यूनियन की मांग को स्वीकार नहीं किया जा सकता है। प्रबंधन ने अपना रुख दिखा दिया है अब यूनियन की बारी है।

ये खबर भी पढ़े… SAIL Bonus Meeting Update: सेल प्रबंधन के बोनस फॉर्मूले पर चर्चा से पहले ही खारिज, अगली बार के लिए बनेगा फॉमूला, 45 हजार पर बात फंसी

इंटक, सीटू, एचएमएस, एटक और बीएमएस के पदाधिकारी दिल्ली से रवाना हो रहे हैं। 11 अक्टूबर को सभी लोग अपने-अपने सेंटर पहुंच जाएंगे। 12 अक्टूबर को वीडियो कांफ्रेंसिंग रखी गई है। वीडियो कांफ्रेंसिंग में आंदोलन की रूपरेखा तय की जाएगी। कर्मचारियों से फीडबैक लेकर आगे बड़ा आंदोलन चलाया जाएगा। हर प्लांट में एक साथ आंदोलन की शुरुआत होगी। हड़ताल को लेकर राजेंद्र सिंह का कहना है कि यह दोधारी तलवार होती है। कर्मचारी खुद तय करेंगे कि आगे क्या करना है। हम सब कर्मचारियों के साथ हैं।

ये खबर भी पढ़े…बीएसपी में बाहरी ठेकेदारों को 2200 रुपए प्रति मजदूर और स्थानीय को 500 रुपए में ठेका, ठेकेदारों की कार रोकने पर हंगामा शुरू

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here