Suchnaji

SAIL BSP: हिर्री डोलोमाइट खदान का क्रशिंग प्लांट बंद, कर्मचारियों का इंसेंटिव और ठेका मजदूरों का रुका वेतन

SAIL BSP: हिर्री डोलोमाइट खदान का क्रशिंग प्लांट बंद, कर्मचारियों का इंसेंटिव और ठेका मजदूरों का रुका वेतन
  • हिर्री डोलोमाइट खदान से भिलाई इस्पात संयंत्र द्वारा नियमित रूप से डोलोमाइट लेने बाबत डायरेक्टर इंचार्ज तक दरवाजा खटखटाया गया।

सूचनाजी न्यूज, हिर्री। स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड-सेल के भिलाई स्टील प्लांट से बड़ी खबर है। बीएसपी की हिर्री डोलोमाइट खदान पर संकट छा रहा है। विगत कुछ माह से भिलाई इस्पात संयंत्र द्वारा नियमित रूप से डोलोमाइट नहीं लिया जा रहा है, जिसके कारण से क्रशिंग प्लांट के ठेका श्रमिकों को ठेकेदार द्वारा वेतन नहीं दिया जा रहा है।

AD DESCRIPTION

ये खबर भी पढ़ें :  EPS 95 पेंशन: EPFO, पीएम मोदी की चुप्पी, अंदर ही अंदर खा रही पेंशनर्स को

हिन्दूस्तान स्टील एम्पलाईज यूनियन (सीटू) भिलाई शाखा-हिरीखदान

(Hindustan Steel Employees Union-CITU) ने बीएसपी प्रबंधन से मांग किया है कि पूर्व कि भांति नियमित रूप से डोलोमाइट भिलाई इस्पात संयन्त्र द्वारा लिया जाए। ताकि सभी नियमित श्रमिकों का इंसेंटिव एवं अन्य सुविधा तथा ठेका श्रमिकों का वेतन दिया जा सके।

10 मार्च 2024 से क्रशिंग प्लांट बंद है। इसको शुरू करने का कोई भी आदेश प्रबंधन द्वारा न देना एक प्रकार से हिर्री खदान को बंद करने की साजिश की आशंका जाहिर की जा रही है। यह एक गंभीर चिंता का विषय है।

ये खबर भी पढ़ें : भिलाई पॉवर हाउस अंबेडकर चौक को लेकर बड़ी खबर, पढ़िए डिटेल

रोजगार छीनने की कोशिश

सीटू हिर्री के अध्यक्ष व सचिव का कहना है कि हिर्री खदान के सभी कर्मचारियों एवं उनके परिवार से रोजगार छीनने की कोशिश कि जा रही है, जो कि पूर्णतः गलत है। यूनियन यह मांग करता है कि तत्काल क्रशिंग प्लाट चालू किया जाए एवं शांति बहाल की जाए। इस प्रकार से क्रशिंग प्लांट का बंद होना अप्रिय घटना को आशंकित करता है।

ये खबर भी पढ़ें : Lok Sabha Elections 2024: राजनांदगांव, महासमुंद और कांकेर में वोटिंग का समय तय

नियमित कर्मचारी का स्थानांतरण न किया जाए

साथ ही सीटू यूनियन प्रबंधन से आग्रह करता है कि किसी भी नियमित कर्मचारी का स्थानांतरण न किया जाए। इस सारे घटनाक्रम में प्रबंधन ने एक बार भी संगठन से चर्चा नहीं की है।

किसी भी नियमित कर्मचारी का स्थानांतरण होने पर हिर्री खदान को बंद करने पर यूनियन सीधी कार्यवाही के लिए बाध्य होगा, जिसकी सम्पूर्ण जिम्मेदारी प्रबंधन की होगी।

ये खबर भी पढ़ें : छत्तीसगढ़ प्रदेश इंटक की कार्यकारिणी बैठक: भिलाई स्टील प्लांट के कर्मियों की बड़ी तैयारी