सेल के कर्मचारी रात गुजारते हैं मौत के बेड पर…

भिलाई स्टील प्लांट के एक जागरूक कार्मिक ने शेयर की तस्वीर। प्रबंधन के कान पर जूं न रेंगने से सूचनाजी.कॉम तक आई तस्वीर।

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड-सेल कीर्तिमानों की झड़ी लगाए हुए है। उत्पादन और प्रोडक्ट के मामले में कोई आसपास भी नहीं है। वहीं, लापरवाही के पैमाने पर भी पूरी तरह से खरा उतर रहा है। सेल के एक जागरूक कर्मचारी ने अपनों की पीड़ा को बयां करती एक तस्वीर सूचनाजी.कॉम से शेयर की। यह तस्वीर भिलाई स्टील प्लांट की है। जान जोखिम में डालकर मशीन हॉल में कर्मचारी जमीन पर रात गुजारते हैं। रेस्ट रूम का हाल बेहाल है। आखिर रात कहां गुजारें। ऐसे में मशीन हॉल ही सहारा बना है। यहां के खतरों से वाकिफ कर्मचारी अपनी जान जोखिम में डालकर रात गुजारते हैं। चारों तरह बिजली कनेक्शन, मशीन, आयल, ज्वलनशील पदार्थ सबकुछ यहां है। लेकिन प्रबंधन बेखबर है। शायद, किसी दिन बड़े हादसे का इंतजार किया जा रहा है।

ये खबर भी पढ़ें: ईएसआईसी देशभर में खोलेगा 23 नए 100 बेड वाले अस्पताल और 62 डिस्पेंसरी, 10 विषयों में चलेगा सर्टिफिकेट कोर्स, 6400 पदों पर होगी नई भर्ती

कार्मिकों का कहना है कि रेस्ट रूम की जगह मशीन हॉल बने हैं। ज्यादातर विभागों में या तो रेस्ट रूम नहीं है अगर है तो भी वहां किसी भी तरह की सुविधाएं नहीं है। कर्मचारी काम करने के बाद ठंडी जगह की तलाश में मशीन हाल में सोने को मजबूर हैं। लगातार काम करने के बाद आराम की जरूरत होती है। ऐसे में जमीन पर ही सो जाते हैं। फर्श पर लोहे की प्लेट लगी हुई है। करंट का भी पूरा इंतजाम है। कभी भी बड़ी दुर्घटना हो सकती है।

ये खबर भी पढ़ें:Coal India: कोयला उत्पादन 28 प्रतिशत छलांग के साथ 138 मिलियन टन तक पहुंचा, संकट में बिजली सेक्टर को 24 दिनों तक सप्लाई का भरपूर भंडार

कर्मचारी रिलीव समय में खास करके ऑपरेशन कार्य वालों के लिए कहीं पर भी व्यवस्थित रेस्ट रूम की व्यवस्था नहीं है। खास यह कि प्रबंधन ने मशीन हाल के बाहर प्रवेश निषेध का बोर्ड लगा कर अपना काम पूरा कर चुका है। जिम्मेदारी अधिकारी अपना काम कर घर निकल जाते हैं। गेट खुला रहता है। ज्यादातर कर्मचारी फर्स्ट शिफ्ट एवं सेकंड शिफ्ट एवं जनरल शिफ्ट में गेट खुले होने की वजह से अपना काम कर घर निकल लेते हैं, तो उन्हें फर्स्ट शिफ्ट-सेकंड शिफ्ट और जनरल शिफ्ट में रेस्ट रूम की आवश्यकता कम ही महसूस होती है। आवश्यकता महसूस होती है तो नाइट शिफ्ट में…।

ये खबर भी पढ़ें:भारत में स्कूली शिक्षा में आईसीटी के उपयोग को यूनेस्को की मिली मान्यता, 25000 अमेरिकी डॉलर का मिलेगा पुरस्कार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!