अंग्रेजों के जमाने के इस्को बर्नपुर क्रिकेट क्लब के BAR पर सेल प्रबंधन का ताला, नोटिस चस्पा होते ही मचा बवाल

0
IISCO Burnpur Steel Plant bar 7
आक्रोशित सदस्यों का कहना है कि सेल-आईएसपी प्रबंधन ने बार को अनिश्चितकालीन बंद करने का किया नोटिस जारी। हंगामा बढ़ता जा रहा है।
AD DESCRIPTION

क्लब के अध्यक्ष ईडी पीएंडए होते हैं। पिछले साल ही ईडी पीएंडए इस्तीफा दे चुके हैं। बर्नपुर का यह स्टैंडर्ड बार है।

सूचनाजी न्यूज, बर्नपुर। अंग्रेजों के जमाने में सन 1938 में बने बर्नपुर क्रिकेट क्लब के बार को स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड-सेल बंद कर रहा है। इस्को बर्नपुर स्टील प्लांट प्रबंधन की ओर से बार को बंद करने की नोटिस चस्पा होते ही बवाल शुरू हो गया है। क्लब के सदस्यों ने हंगामा करते हुए प्रबंधन के नोटिस के खिलाफ मोर्चा खोल दिया दिया है। सदस्यों का कहना है कि प्रबंधन गैर कानूनी तरीके से इसे बंद करना चाह रहा है। क्लब के अध्यक्ष ईडी पीएंडए होते हैं। पिछले साल ही ईडी पीएंडए इस्तीफा दे चुके हैं। बर्नपुर का यह स्टैंडर्ड बार है।

ये खबर भी पढ़ें…Berlin Special Olympics-2023: भारतीय टीम के 250 खिलाड़ियों और 14 खेलों का पूरा खर्च उठाएगा सेल-बोकारो स्टील प्लांट

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

सेल-बर्नपुर प्रबंधन की ओर से महाप्रबंधक (सम्पर्क व प्रशासन, आतिथ्य एवं क्रीड़ा) डी. मजूमदार द्वारा जारी नोटिस (REF NO.SPORTS/CR/10/2022) पर हंगामा मचा हुआ है। बर्नपुर क्रिकेट क्लब के बार को अगले आदेश तक बंद करने का आदेश जीर किया गया है,जबकि सदस्यों का कहना है कि इसे अनिश्चित काल के लिए बंद करने की तैयारी है।

ये खबर भी पढ़ें…क्या आप जानते हैं बाघों के गर्भ से पोस्टमार्टम तक की ये बातें, व्हाइट टाइगर से जुड़े हर सवालों का जवाब पढ़ें टाइगर मैन डाक्टर जीके दुबे की ज़ुबानी

प्रबधन की तरफ से जब नोटिस चस्पा किया गया तो उस वक्त बार खुल चुका था। इसलिए उस वक्त बंद नहीं किया गया। इससे क्लब सदस्यों में आक्रोश फैल गया। सूत्रों के अनुसार फैसले के विरोध में कल रात ही क्लब परिसर में भारी हो हंगामा का माहौल रहा, जिसके बाद नोटिस जारी होने के बावजूद बार को बंद नहीं किया गया।

ये खबर भी पढ़ें….BWU का तंज: कहीं मान्यता का जश्न तो कहीं प्रदर्शन की नौटंकी, चुनाव से पहले बोलते थे दिलाएंगे 50 ग्राम सोना, दिला नहीं सके 50 हजार बोनस…

सदस्यो का कहना है की बर्नपुर क्रिकेट क्लब का निर्माण सन 1938 में किया गया।अभी ये क्रिकेट एसोसियेशन ऑफ बंगाल (CAB) द्वारा मान्यता प्राप्त शहर का सबसे ऐतिहासिक क्लब है। जिसके संचालन का जिम्मा सदस्यों द्वारा निर्वाचित क्लब कमेटी करती है। लेकिन सेल प्रबंधन अपना तानाशाही रवैया दिखा रहा और बार बंद करने के लिए नोटिस जारी करना पूरी तरह से गैर कानूनी है।

ये खबर भी पढ़ें…. 50th SAIL AGM: भारतीय कंपनियों के एलीट क्लब में सेल भी, 50 प्रतिशत से ज्यादा कारोबार में छलांग

बार का लाइसेंस पश्चिम बंगाल एक्साइज विभाग द्वारा जारी किया गया है, जिसके लिए नियमानुसार सरकार को सालाना 5 लाख रुपए जमा किया जाता है। बिना किसी से बातचीत, बिना एक्साइज और क्लब कमेटी की जानकारी के सेल प्रबंधन ऐसा नहीं कर सकता।

ये खबर भी पढ़ें…. NMDC में एक लाख 50 हजार 800 रुपए बोनस घोषित, एक अक्टूबर तक खाते में आ सकती है राशि

दबे जुबान सदस्यों ने अधिकारियों के लिए निर्मित बर्नपुर क्लब के बार को भी बंद करने का नोटिस जारी करवाने को कहा। प्रबंधन की इस तरह के रवैए से एक टकराव की स्थिति बनती नजर आ रही है, जिसके खिलाफ सदस्य कोर्ट तक जाने को बात कह रहे है। इस बाबत प्रबंधन का पक्ष जानने के लिए जनसंपर्क विभाग प्रमुख अजीत कुमार और अन्य अधिकारियों को फोन किया गया, लेकिन किसी से संपर्क नहीं हो सका।

ये खबर भी पढ़ें…. SAIL-भिलाई की ललकार, बोनस दो 45 हजार, वरना इस्पात भवन पर होगा अब आर-पार, देखिए फोटो…

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here