सेल अधिकारी और कर्मचारी की भर्ती होती है एक साथ, लेकिन सुविधाओं में भेदभाव, कर्मी के परिवार को नहीं मिलती मेडिकल सुविधा


सूचनाजी न्यूज, भिलाई। बीएसपी वर्कर्स यूनियन ने प्रबंधन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। एक के बाद एक खामियां उजागर कर प्रबंधन की मानसिकता को सार्वजनिक किया जा रहा है। कर्मचारियों को जागरुक किया जा रहा। पिछले दिनों मेडिकल पॉलिसी पर प्रबंधन को घेरा गया था। नया मामला ट्रेनीज के परिवार वालों को मेडिकल सुविधा नहीं देने का है। यूनियन का कहना है कि प्रबंधन की दोहरी सोच की वजह से अधिकारी वर्ग के ट्रेनीज के परिवार वालों को मेडिकल सुविधा का लाभ दिया जा रहा है,जबकि कर्मचारी वर्ग को वंचित किया गया है। इस बात से कर्मचारी खासा नाराज हैं।

ये खबर भी पढ़ें: सेल के ठेका मजदूरों की हाजिरी होगी बायोमेट्रिक से और सामूहिक बीमा भी

अध्यक्ष उज्ज्वल दत्ता का कहना है कि भिलाई भिलाई इस्पात संयंत्र में दो प्रकार से भर्ती होती है। बहुत ज्यादा भेदभाव पूर्ण नीति बनाई गई है। ऐसी नीतियां अंग्रेजों के शासन काल में भी कर्मचारियों-अधिकारियों के प्रति नहीं रखी गई थी। अधिकारी वर्ग में भर्ती होते ही वेतन के रूप में बेसिक प्लस डीए दिया जाता है। उनके माता-पिता के इलाज की भी संपूर्ण सुविधा उन्हें प्रदान की जाती है। कर्मचारी वर्ग में भर्ती के समय कर्मियों को उनको बेसिक प्लस डीए न देकर उन्हें मात्र स्टाइपेंड के रूप में न्यूनतम राशि प्रदान की जाती है। उनके माता-पिता को भी चिकित्सा सुविधा प्रदान नहीं की जाती है।

ये खबर भी पढ़ें: सेल के कर्मचारी ने ट्रेन से कटकर दी जान, घर पर कई बार बोल चुका था करूंगा सुसाइड…

भेदभाव की वजह से कई ट्रेनीज छोड़कर चले गए

यूनियन का कहना है कि इतने कम राशि में नौकरी न कर पाने की स्थिति में कई ट्रेनीज भिलाई इस्पात संयंत्र से इस्तीफा देकर भी चले जाते हैं। जिससे भिलाई इस्पात संयंत्र को भी नुकसान उठाना पड़ता है। नॉन एनजेसीएस फोरम के गठन के बाद प्रथम बार ट्रेनीज कर्मचारियों के स्टापेंड राशि में वृद्धि करने की मांग की गई, जिस पर प्रबंधन ने दबाव में आकर कर्मियों के स्टाइपेंड राशि में तो वृद्धि किया। परंतु अभी तक इन ट्रेनीज को बेसिक प्लस डीए राशि नहीं दिया जा रहा है।

ये खबर भी पढ़ें: इसी लेटलतीफी के चलते टाटा स्टील ने 2009 में एनजेसीएस को किया था टाटा

ट्रेनीज ने बीएसपी वर्कर्य यूनियन को सुनाया दुखड़ा, ये रहे मौजूद

बैठक में यूनियन के अध्यक्ष उज्ज्वल दत्ता, महासचिव खूबचंद वर्मा, अतिरिक्त महासचिव दिल्लेश्वर राव, कार्यकारी महासचिव शिवबहादुर सिंह, उपाध्यक्ष अमित कुमार बर्मन, उप महासचिव सुरेश सिंह, जितेंद्र यादव, नरसिंह राव, वरिष्ठ उपाध्यक्ष नोहर सिंह गजेंद्र, सहायक महासचिव प्रदीप सिंह, सचिव मनोज डडडेना, कन्हैया लाल अहिर्रे, संदीप सिंह, विमल पांडे, सुभाष महाराणा, मंगेश गिरी, राजेश यादव, धनंजय गिरी, उमेश गोस्वामी, रवि शंकर सिंह प्रमुख रूप से उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!