सेल कर्मी पहले सस्पेंड, फिर इंक्रीमेंट डाउन, बहाल हुआ तो रुका बोनस

0
sail bonus vivad
बोनस से वंचित होते ही उक्त दोनों कर्मचारी विभागीय अधिकारियों का चक्कर लगा रहे हैं।
AD DESCRIPTION

बोकारो स्टील प्लांट में कार्यरत रहे कर्मचारी राकेश कुमार गिरी किरीबुरू आयरन ओर माइंस और भावेश चंद सिंह का गुआ आयरन ओर माइंस में ट्रांसफर किया गया था।

सूचनाजी न्यूज, झारखंड। दो कर्मचारियों को छोड़कर सेल के सभी कर्मियों को इस बार बोनस दे दिया गया है। सिर्फ दो कर्मचारियों को बोनस नहीं दिया गया है। ये वही कर्मचारी हैं, जिन्हें हड़ताल करने के आरोप में सस्पेंड किया गया था। मान-मनव्वल के बाद ये दोनों बहाल किए जाने के साथ ही बोकारो स्टील प्लांट से खदान में ट्रांसफर कर दिए गए।

ये खबर भी पढ़े …झारखंड में 980 यूनियनों का रजिस्ट्रेशन कैंसिल, 65 पेज की लिस्ट ने बढ़ाया बीपी, जानिए सच्चाई…

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

एक कर्मचारी किरीबुरू आयरन ओर माइंस और दूसरा चासनाला खदान में कार्यरत है। दीपावली पर ये दोनों कर्मचारी बोनस से वंचित रहे। अब छठ पूजा से पहले भी राहत मिलती नहीं दिख रही है। सवाल उठाया जा रहा है कि आखिर ये किस तरह की सजा दी जा रही है।

ये खबर भी पढ़े …वेस्टर्न कोल फील्ड्स लिमिटेड को मिली एक साथ 2 सौगात, छत्तरपुर-1 भूमिगत खदान में कंटीन्यूअस माइनर और मुख्यालय में इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर शुरू

Amazon(realme c35)

ये खबर भी पढ़े …Bhilai Steel Plant, खदान, अस्पताल और मंदिर की चौखट पर डायरेक्टर टेक्नीकल संग हाजिरी लगाएंगी Soma Mandal, सुनेंगी मन की बात

बोकारो स्टील प्लांट में कार्यरत रहे कर्मचारी राकेश कुमार गिरी किरीबुरू आयरन ओर माइंस और भावेश चंद सिंह का गुवा आयरन ओर माइंस में ट्रांसफर किया गया था। भावेश का दो इंक्रीमेंट कम किया गया। राकेश को चेतावनी देकर छोड़ा गया। झारखंड ग्रुप ऑफ माइंस के दो अन्य सस्पेंड और बहाल किए गए कर्मचारियों को बोनस दिया गया है। राजेश कुमार-मेघाहाताबुरु और राजीव कुमार-चासनाला माइंस को बोनस मिला है।

ये खबर भी पढ़े …भाई दूज पर विधायक भाई को बहनों ने बांधी राखी, खिलाया खीर, जानिए क्या मिला रिटर्न गिफ्ट

बोनस से वंचित होते ही उक्त दोनों कर्मचारी विभागीय अधिकारियों का चक्कर लगा रहे हैं। खदान प्रबंधन को पत्र लिखा है। गुहार लगाई कि उनका बोनस भुगतान किया जाए। कर्मचारी वर्ग की तरफ से बताया जा रहा है कि खदान प्रबंधन पूरे मामले को बोकारो स्टील प्लांट प्रबंधन पर डाल रहा है। वहीं, बीएसएल प्रबंधन खदान का मामला बताकर पल्ला झाड़ रहा है। फिलहाल, कर्मचारी दोनों प्रबंधन तक अपनी बात पहुंचा रहे हैं ताकि न्याय मिल सके।

ये खबर भी पढ़े …SAIL बना भारत सरकार की डिजिटल पहल का ध्वजवाहक, GeM से की 10 हजार करोड़ की खरीदारी

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here