सेल के कर्मचारी की सक्रियता और मानवता से बची मां संग दो बेटियों की जान, वरना रौंदता हुआ ट्रक गुजर जाता…

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। भिलाई इस्पात संयंत्र के दूरसंचार विभाग के कर्मचारी मनीष कुमार झा ने मानवता की नजीर पेश की है। मानवीय पहल से तीन महिलाओं की जान बचाई जा सकी है। अनियंत्रित ट्रक के नीचे एक्टिवा आ गई। इस पर सवार मां और दो बेटियां जमीन पर गिर कर बेहोश हो चुकी थीं। ट्रक के नीचे एक्टिवा आते ही मनीष ने ट्रक चालक को शोर मचाकर रोक लिया। इस तरह अनहोनी से तीनों बच गए।

इसी ट्रक के नीचे एक्टिवा आ गई थी।

ये खबर भी पढ़ें: 43 हजार के एलटीसी पर टैक्स जमा कर चुके हैं कर्मचारी, पर्क्स मिला अक्टूबर 2021 से, ब्लॉक ईयर है 2021-23 तक, अब रिकवरी का विरोध

भिलाई इस्पात संयंत्र में ड्यूटी पूरी करने के बाद मनीष रायपुर स्थित आवास के लिए लौट रहे थे। जंजगिरी, देवभोग दूध संयंत्र जाने वाले मोड़ के पास पहुंचे ही थे कि एक एक्टिवा में सवार महिलाओं को बेकाबू ट्रक ने जोरदार टक्कर मार दी,जिससे अगले पहिए के नीचे एक्टिवा आ गई। महिलाओं को पैर, हाथ में चोट लगी। गाड़ी दुर्घटना ग्रस्त हो गई।

ये खबर भी पढ़ें: टाटा के कर्मचारियों के लिए ‘56 का समझौता’ गीता-बाइबिल और कुरआन के कम नहीं, 94 साल से एक भी हड़ताल नहीं, औद्योगिक शांति ही शांति

यह देखते ही मनीष कुमार झा ने अपनी गाड़ी किनारे करके ड्राइवर को चिल्लाते हुए ट्रक पीछे करने के लिए कहा। वहां सड़क के किनारे बस का इंतज़ार कर रहे लोगों की सहायता से एक्टिवा सवार मां और दो बेटियों को उठाकर सड़क किनारे किया गया। मनीष कुमार झा ने डायल-112 में कॉल किया। नशे में धुत ड्राइवर को पकड़कर रोक लिया। चाबी लेकर ड्राइवर को ट्रक से नीचे उतारा गया। संजीवनी एंबुलेंस एवं थाने से फ़ोन आया।

आरोपित ट्रक चालक को मनीष झा ने पकड़कर पुलिस के हवाले किया।

मनीष कुमार झा सभी को दुर्घटना वाली लोकेशन की जानकारी देते रहे। मुआवजा राशि दिलाने के लिए ट्रक मालिक को सूचित किया गया। इधर, घायलों का प्राथमिक उपचार समीप के अस्पताल में कराया गया। एम्बुलेंस और पुलिस भी मौके पर पहुंच चुकी थी।

ये खबर भी पढ़ें: सेल के ठेका मजदूरों की हाजिरी होगी बायोमेट्रिक से और सामूहिक बीमा भी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!