सबसे जवाब मांगने वाला BWU पहले ये बताए, खुद क्या किया कर्मियों के लिए: CITU

युवा कर्मी कहते हैं कि पिछले के पिछले मान्यता चुनाव में इस फोरम ने युवा कर्मियों को उनके मुद्दों को लेकर बरगलाया।

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। एनजेसीएस के नाम पर भड़ास निकालने वाले बीएसपी वर्कर्स यूनियन ने सीटू पर अंगुली उठाई। इस बात से सीटू नेता उतने नहीं भड़के, जितने यूनियन के सदस्य। सोशल मीडिया पर बीएसपी वर्कर्स यूनियन और अध्यक्ष उज्ज्वल दत्ता राडार पर आ गए। हर चीज में सांसद को श्रेय देने और सिर्फ एनजेसीएस पर सवाल उठाने को लेकर तंज कस दिए गए। उल्टे उज्जवल दत्ता से सवाल दाग दिया गया कि पहले वह बताएं की सांसद को श्रेय देने के अलावा कर्मचारियों के लिए उन्होंने आज तक क्या किया।

ये खबर भी पढ़े …दिल्ली से चली ICAI की MSME बस यात्रा पहुंची भिलाई, संस्थाओं को समझाएगी सरकारी योजनाओं का फॉर्मूला

ये खबर भी पढ़े …Share market News: करोड़पति का है ख्वाब तो दीपावली के ‘मुहूर्त ट्रेडिंग’ से करें शुरुआत, शाम 6.15 बजे खुलेगा शेयर मार्केट

सीटू के सदस्यों का कहना है कि एनजेसीएस में घुसने की लालच में नॉन एनजेसीएस का गठन करने वाले सुर्खियों में बने रहने के लिए हमेशा एनजेसीएस यूनियनों पर अनर्गल बयान बाजी करते रहते हैं। ऐसे लोगों को जवाब देने की आवश्यकता ही नहीं है। यह बात संयंत्र में कार्यरत एक युवा कर्मी ने व्हाट्सएप में लिखा। उन्होंने आगे लिखा कि जब से इस फोरम का गठन हुआ है, तब से लेकर आज तक इन्होंने कर्मियों के लिए क्या किया, उसे सिलसिलेवार जारी करें। अन्यथा अनर्गल बयानबाजी बंद कर दें।

ये खबर भी पढ़े …वाह…! NMDC के ठेका मजदूरों को 84 हजार बोनस, इधर-सेल कर्मियों के खाते में आया 31 हजार
हम नए कर्मियों को बरगलाने के सिवा कुछ नहीं किया नॉन एनजेसीएस फोरम ने

युवा कर्मी कहते हैं कि पिछले के पिछले मान्यता चुनाव में इस फोरम ने युवा कर्मियों को उनके मुद्दों को लेकर बरगलाया। 1300 वोट पाने में कामयाब रहा। किंतु पिछले चुनाव में युवा कर्मियों का भ्रम टूट गया तो कुछ पुराने कर्मियों को गुमराह करके 1000 वोट हासिल किया। अब धीरे-धीरे इनके बरगलाहट को कर्मी समझने लगे हैं। इस फोरम का गठन ही झूठ की बुनियाद पर हुआ है तो इनसे बरगलाने और गुमराह करने के अलावा और क्या उम्मीद की जा सकती है।

ये खबर भी पढ़े …आधे-अधूरे MOU के एक साल पूरे, सेल में एरियर और रात्रि भत्ता अब भी दूर, BWU बोला-काला धब्बा और नासूर
अध्यक्ष की बैशाखी पर चलने वाले संगठन कर्मियों को न पढ़ाएं नीति का पाठ

सीटू का कहना है कि यूनियन हमेशा से ही कर्मियों का संघ होता है, उसमें पदाधिकारियों के द्वारा लिए गए निर्णय पर काम किया जाता है। किंतु बीएसपी वर्कर्स यूनियन ऐसा संगठन है, जिसकी अपनी कोई विचारधारा नहीं है। इनके द्वारा अब तक थामें गए रजनीतिक दलों की सूची भी सबके सामने हैं। यह ऐसा संगठन है, जिसमें पदाधिकारी तो दिखते हैं। किंतु निर्णय एवं केंद्र बिंदु में हमेशा अध्यक्ष नजर आते हैं। इस यूनियन के छपने वाले बैनर पोस्टर एवं पर्चे से लेकर बयानों तक हर जगह अध्यक्ष ही अध्यक्ष नजर आता है। अध्यक्ष के आदेशों पर चलने वाला संगठन कहा जाए तो अतिशयोक्ति नहीं होगा। अब यह संगठन दूसरों को नीति का पाठ पढ़ा रहा है।

ये खबर भी पढ़े …भिलाई टाउनशिप में मच्छरों का प्रकोप, डेंगू से बचने के लिए आप करें ये प्रयोग
और किस-किस मुद्दे पर चिट्ठी लिखे हैं अभी से करें खुलासा

कर्मचारियों ने कटाक्ष करते हुए कहा कि एनजेसीएस एग्रीमेंट से लेकर पदनाम के मुद्दे तक किसी भी मुद्दे पर कोई सकारात्मक बात सामने आने पर उसका पूरा श्रेय सांसद महोदय को देने वाले नॉन एनजेसीएस यूनियन के नेता और किस-किस मुद्दे पर प्रबंधन को चिट्ठी लिखें है। कर्मियों से जुड़े हुए कौन-कौन से विषय पर बात कर रहे हैं, उसका अभी से खुलासा करें, वरना जैसे ही किसी भी तरह का समाधान निकल आएगा। वैसे ही वे कुद पड़ेंगे कि इस विषय को हमने उठाया था। इसका समाधान हमने निकलवाया है।

ये खबर भी पढ़े …सेक्टर-9 हॉस्पिटल के अटेंडेंट को नहीं मिला बोनस, काम से भी निकाला, धनतेरस की शाम सड़क पर झाम
हड़ताल में प्रबंधन के साथ खड़े होने वाले न दें हड़तालियों को ज्ञान

भिलाई के इतिहास में 30 जून 2021 का हड़ताल सबसे बड़े हड़ताल के रूप में जाना जाता है, जिसमें यह तथाकथित एनजेसीएस फोरम वाली यूनियन ने नोटिस तक नहीं दिया। आज जब 30 जून 2021 की हड़ताल को लेकर फास्ट्रेक प्रमोशन पॉलिसी में कुछ दिक्कतें आई एवं सीटू यूनियन ने नए कर्मियों के साथ मिलकर प्रबंधन के साथ विभिन्न मोर्चों पर सीधी चर्चा करके उसका समाधान निकाला। तब ऐसी में हमेशा हड़ताल के समय प्रबंधन के साथ खड़ी रहने वाली यह नॉन एनजेसीएस यूनियन सीटू की सफलता से बौखला कर इधर-उधर पत्र लिखने चर्चा करने की बात को बड़बड़ाना शुरू कर दी है। यदि उसने कहीं चिट्ठी लिखा कर भेजा है एवं भेजने की तारीख सहित पक्का सबूत है तो अविलंब जारी करें। अन्यथा संघर्ष के मैदान में उतर कर संघर्ष करने वालों को ज्ञान न दें।

ये खबर भी पढ़े …भिलाई स्टील प्लांट के मर्चेंट मिल फर्नेस में लगी आग, अफरा-तफरी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!