बीएमएस की गुहार-मंत्रीजी निलंबित कर्मचारियों की वापसी और प्रोत्साहन के रूप के 50 ग्राम सोना दिलाइए

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। भिलाई इस्पात मजदूर संघ ने इस्पात राज्य मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते से सर्किट हाउस दुर्ग में भेंट कर एक ज्ञापन सौंपा। भिलाई इस्पात संयंत्र कर्मचारियों के वेज रिवीजन तथा संयंत्र से जुड़ी समस्याओं पर चर्चा की। निलंबित कर्मचारियों की भिलाई में वापसी के लिए मंत्री ने आश्वासन दिया है। इस्पात राज्यमंत्री ने सभी विषयों को ध्यान से सुना तथा ट्रांसफर हुए कर्मियों के मुद्दे पर जल्द ही निराकरण का आश्वासन दिया। साथ ही वेज रिवीजन से संबंधित बकाया पर ठोस कदम उठाने का आश्वासन दिया है। ज्ञापन सौंपने वालों में अध्यक्ष आईपी मिश्रा, कार्यकारी अध्यक्ष चन्ना केशवलू, महामंत्री रवि शंकर सिंह, देवेंद्र कौशिक, हरिशंकर चतुर्वेदी, उमेश मिश्रा, एविसन वर्गीस, कैलाश सिंह, अशोक माहोर, वशिष्ठ वर्मा, धर्मेंद्र धामू, प्रदीप पाल, जगजीत सिंह, श्रीनिवास मिश्रा, रवि चौधरी, आरके पांडे, सुरेंद्र चौहान, दीपक तिवारी, जॉन आर्थर, भागीरथी चंद्राकर, संतोष सिंह, रमेश कुहिकर, अवधेश पांडे आदि शामिलल थे।

ये खबर भी पढ़ें:  इस्पात राज्यमंत्री से अधिकारियों ने कहा-एफएसएनएल को बेचने से बचाइए, मंत्री का जवाब-मामला आगे बढ़ चुका…दिल्ली में करेंगे चर्चा


बीएमएस ने मंत्री से की ये मांग

  1. वित्तीय वर्ष में 112000 करोड़ के टर्नओवर, 12000 करोड़ के प्रॉफिट एवं सेल के गोल्डन जुबली वर्ष को देखते हुए प्रोत्साहन के रूप में 50 ग्राम सोने का सिक्का सभी कर्मचारियों को दिया जाए।
  2. 2017 जनवरी से मार्च 2020 तक 39 महीने का एरियर बकाया है, उसे पार्क्स सहित एवं पूर्व 17 माह के पार्क्स के बकाया राशि का भुगतान कराया जाए।
  3. ग्रेच्युटी सीलिंग का आदेश तत्काल निरस्त किया जाए।
  4. सेल में डिप्लोमा इंजीनियर को जूनियर इंजीनियर तथा आईटीआई होल्डर को तकनीशियन पदनाम जॉइनिंग के समय से दिया जाए।
  5. प्रशिक्षु कर्मचारी को भी प्रशिक्षु अधिकारी की तरह ट्रेनिंग पीरियड से ही ग्रेड अनुसार पूरा वेतन दिया जाए।
  6. वेज रिवीजन में हो रही देरी के कारण टूल डाउन के दौरान निलंबित कर्मचारियों की बहाली के बाद अन्य यूनिट में ट्रांसफर कर दिया गया है। उन्हें भिलाई में वापस लाकर सेवा का मौका दिया जाए तथा निलंबित कर्मी को जल्द से जल्द बहाल किया जाए।
  7. भिलाई प्रबंधन द्वारा भिलाई टाउनशिप की विद्युत व्यवस्था को छत्तीसगढ़ विद्युत मंडल को स्थानांतरित करने के प्रस्ताव पर रोक लगाई जाए।

ये खबर भी पढ़ें:   BSP Task Force: 22 करोड़ खर्च करने के बाद भी नहीं थमे हादसे, आफिसर्स एसोसिएशन-यूनियन प्रतिनिधि देंगे दस दिनों में रिपोर्ट, बताएंगे समाधान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!