बस्तर ट्राइबल टैटू का जुनून चढ़ा युवाओं पर, कमाई का मिला जरिया

0
bastar tribal tatoo
छत्तीसगढ़ राज्योत्सव के आयोजन में प्राचीन गोदना का नया स्वरूप बस्तर ट्राइबल टैटू काफी फेमस हो रहा है। ट्राइबल टैटू का जबरदस्त क्रेज है।
AD DESCRIPTION

-छत्तीसगढ़ राज्योत्सव के दौरान राजधानी रायपुर के साइंस कॉलेज मैदान में लगी विकास प्रदर्शनी में प्राचीन गोदना का नया स्वरूप बस्तर ट्राइबल टैटू के रूप में नजर आया।

-बस्तर आर्ट गैलरी जगदलपुर से प्रशिक्षित बस्तर के युवा प्रसिद्ध प्राचीन गोदना कलाकृतियों को टैटू के रूप में लोगों के शरीर पर बना रहे हैं।

-राज्योत्सव देखने आए युवाओं में बस्तर गोदना गुदवाने के लिए खासा क्रेज दिखाई दिया।

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

-प्राचीन जनजातियों द्वारा यह भी माना जाता है कि गोदना का शरीर पर गुदे होने से बुरी शक्तियों का शरीर पर प्रभाव नहीं होता है।

सूचनाजी न्यूज, रायपुर। अक्सर आपने ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं के हाथों पर गोदना देखा होगा। खासतौर से आदिवासी बहुल क्षेत्रों में। अब यही गोदना ट्राइबल टैटू का रूप ले चुका है। प्राचीन गोदना का नया स्वरूप बस्तर ट्राइबल टैटू काफी फेमस हो रहा है। युवाओं में ट्राइबल टैटू का जबरदस्त क्रेज है। गोदना की प्राचीन कला को टैटू के रूप में सहेजने के मामले में बस्तर के युवा आगे निकल रहे हैं। साथ ही युवाओं को आय का नया जरिया भी मिल गया है।

ये खबर भी पढ़े …बाप रेह…! दुर्ग जिला अस्पताल के 38 डाक्टर और 70 नर्स गैर हाजिर, संभागायुक्त के छापेमारी से खुला राज

छत्तीसगढ़ राज्योत्सव के दौरान राजधानी रायपुर के साइंस कॉलेज मैदान में लगी विकास प्रदर्शनी में प्राचीन गोदना का नया स्वरूप बस्तर ट्राइबल टैटू के रूप में नजर आया। यहां बस्तर आर्ट गैलरी जगदलपुर से प्रशिक्षित बस्तर के युवा प्रसिद्ध प्राचीन गोदना कलाकृतियों को टैटू के रूप में लोगों के शरीर पर बना रहे हैं। राज्योत्सव देखने आए युवाओं में बस्तर गोदना गुदवाने के लिए खासा क्रेज दिखाई दिया।

ये खबर भी पढ़े …सेल-आरएसपी ने अप्रैल-अक्टूबर के बीच उत्पादन में रचे कीर्तिमान, डायरेक्टर इंचार्ज ने बढ़ाया मान

प्राचीन समय में सोने-चांदी के आभूषणों के अभाव के कारण स्त्री-पुरूष गोदना से बने आभूषण वाले डिजाइन बनवाते थे। प्राकृतिक आपदाओं में से एक बिजली गिरने जैसी आपदा से बचने के लिए अपने एवं अपने बच्चों के चेहरे के कुछ विशेष स्थानों पर गोदना गुदवाया जाता था। अब इस गोदना का आधुनिक रूप टैटू के रूप में खासा लोकप्रिय हो रहा है।

ये खबर भी पढ़े … विधायक देवेंद्र ने छावनी में की सौगातों की बौछार, क्रिकेट पिच, सड़क, नाला और बनेगा द्वार

Amazon(Sei Bello Dresses for Women A-Line Midi Dress Black Casual Knee Length Dress)

ये खबर भी पढ़े …बच्चों ने चित्रकारी से किया भ्रष्टाचार पर वार, इन्हें शनिवार को मिलेगा पुरस्कार

जगदलपुर (बस्तर) के करीबी गांव कावापाल के गोदना कलाकार जोगी राम बघेल ने बताया कि 12वीं पास होने के बाद वह रोजगार की तलाश में थे। पहले उन्हें छत्तीसगढ़ टूरिज्म में काम मिल गया, इसके बाद उन्हें जिला प्रशासन की मदद से बादल एकेडमी में 20 दिनों तक गोदना आर्ट की ट्रेनिंग दी गई। उनके साथ लगभग 20 लड़के-लड़कियों ने भी प्रशिक्षण प्राप्त किया। राज्य सरकार और मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को धन्यवाद देते हुए उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने युवाओं को रोजगार का नया जरिया दिया है, जिससे वे अपनी प्राचीन संस्कृति को बचाने के साथ आय भी अर्जित कर रहे हैं।

ये खबर भी पढ़े …बीएसपी अस्पताल की सुविधाएं कर रही मायूस, प्राइवेट हॉस्पिटल बढ़ा रहे पूर्व अधिकारियों से नजदीकी

उन्होंने बताया कि वे ट्राइबल आर्ट फॉर्म गोदना को उसकी प्राचीन महक के साथ आधुनिक टैटू के रूप में बना रहे हैं, जिसे युवाओं द्वारा खासा प्रसंद किया जा रहा है। नारायण पाल के साथ आए युवा कलाकार धनुर्जय बघेल ने कहा कि बस्तर की संस्कृति के लिए हम काम कर रहे हैं, जिससे हमें बहुत अच्छा लग रहा है। उनके साथ सुखमन नाग और संदीप बघेल भी बस्तर ट्राइबल टैटू बनाने का काम कर रहे हैं।

ये खबर भी पढ़े …हे राम…! दुनिया का इकलौता डांस, जो आत्मा से करता है बातचीत

यहां टैटू बनाने के बाद युवाओं को उसके देखभाल के तरीके भी बताएं जा रहे है, जिससे उन्हें किसी प्रकार का संक्रमण या परेशानी न हो।

टैटू बनाकर उत्साहित रायपुर के आकाश अग्रवाल ने बताया कि पहले उन्होंने मार्केट से 3 हजार रूपए देकर टैटू बनवाया था, यहां मात्र 600 रुपए में प्रोफेशनल तरीके से टैटू बनाया गया है। कम कीमत के साथ टैटू में फिनिशिंग भी बहुत अच्छी है। बाजार की तरह ही बस्तर के युवा मशीन का इस्तेमाल कर रहे हैं।

ये खबर भी पढ़े …SAIL-SPU के एके चक्रबर्ती संभालेंगे भिलाई स्टील प्लांट के ED एमएम की कमान

गोदना कला से जुड़ी मान्यताएं

गोदना कलाकारों ने बताया कि प्राचीन मान्यता के अनुसार गोदना पृथ्वी लोक से स्वर्ग तक साथ जाने वाला एक अमूल्य आभूषण है, जिसे देवताओं के लिए उपहार ले जाने जैसा माना जाता है।

ये खबर भी पढ़े …बीएसपी के ईडी समेत जूनियर अधिकारियों को विदाई देगा आफिसर्स एसोसिएशन

प्राचीन जनजातियों द्वारा यह भी माना जाता है कि गोदना का शरीर पर गुदे होने से बुरी शक्तियों का शरीर पर प्रभाव नहीं होता है। रोचक मान्यता है कि मौजूदा एक्यूपंचर जैसे ही शरीर के कुछ विशेष स्थानों पर गोदना से कुछ शारीरिक बीमारियों को भी दूर किया जाता था।

ये खबर भी पढ़े …राज्योत्सव की शुभ घड़ी में दुर्ग जिला अस्पताल में गूंजी 39 बच्चों की किलकारियां, आमदिनों में होती 15 से 18 डिलीवरी

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here