Chhattisgarh में बच्चों की जिंदगी संवारने UNICEF संग इन्होंने मिलाया हाथ

0
बाल अधिकार संरक्षण आयोग, राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण और यूनिसेफ का संयुक्त आयोजन। बाल संरक्षण इकाई को एक मंच पर लाया गया।
AD DESCRIPTION

-किशोर न्याय बोर्ड, बाल कल्याण समिति, विधिक सेवा प्राधिकरण और जिला बाल संरक्षण इकाई आए एक मंच पर।

-सुरक्षा, शिक्षा और सुपोषण हर बच्चें का अधिकार है।

-बेटियों की सुरक्षा हमारी प्राथमिकता होनी चाहिए।

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

-न्यायाधीश भादुड़ी ने कहा-पहले नैतिक कहानियों की प्रेरक पुस्तकें बच्चों के हाथ में होती थी। अब मोबाइल।

सूचनाजी न्यूज, रायपुर। छत्तीसगढ़ में बाल संरक्षण के लिए ठोस कदम उठाए गए हैं। किशोर न्याय बोर्ड, बाल कल्याण समिति, विधिक सेवा प्राधिकरण और जिला बाल संरक्षण इकाई एक मंच पर अ गए हैं।

ये खबर भी पढ़े … एक क्लिक पर भिलाई स्टील प्लांट की जमीन की कुंडली

छत्तीसगढ़ बाल अधिकार संरक्षण आयोग द्वारा यूनिसेफ और विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा बच्चों के हित संरक्षण के लिए नई पहल करते हुए पहली बार जिलों के किशोर न्याय बोर्ड, बाल कल्याण समितियों के अध्यक्ष, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण और जिला बाल संरक्षण इकाई को एक मंच पर लाया गया।

ये खबर भी पढ़े … भिलाई टाउनशिप में मच्छरों का खात्मा करने, आ रही फॉगिंग मशीन

इससे संस्थाओं द्वारा किए जाने वाले कार्यों में तेजी और स्पष्टता आएगी। बाल संरक्षण आयोग द्वारा रविवार को नया रायपुर रोड स्थित होटल में पहली त्रैमासिक समीक्षा बैठक सह कार्यशाला का आयोजन किया गया।

ये खबर भी पढ़े … Lunar Eclipse 2022: पूर्ण चंद्र ग्रहण 8 नवंबर को, जानिए चंद्र ग्रहण की वजह

ये खबर भी पढ़े … Sail ई-0 परीक्षा का पेपर लीक होने की चर्चा, इस्को बर्नपुर के कर्मचारी पर एक्शन…? प्रबंधन बता रहा अफवाह

इस अवसर पर छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय के न्यायाधीश और छत्तीसगढ़ राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के कार्यपालक अध्यक्ष गौतम भादुड़ी, छत्तीसगढ़ राज्य बाल संरक्षण आयोग के अध्यक्ष तेजकुंवर नेताम, यूनिसेफ के राज्य प्रमुख जॉब जकारिया, आईजी डॉ. संजीव शुक्ला और महिला एवं बाल विकास विभाग के विशेष सचिव पोषण चंद्राकर भी उपस्थित थे।

ये खबर भी पढ़े …भिलाई स्टील प्लांट से बाइक लेकर भागा चोर, सेफ्टी का पूरा ध्यान, साथ ले गया दूसरे का हेलमेट

बैठक में किशोर न्याय अधिनियम (बालकों की देखरेख और संरक्षण) 2015 तथा पॉक्सो एक्ट (लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम) 2012 और उनके प्रावधानों के क्रियान्वयन, उन्हें लागू करने में आने वाली दिक्कतों पर चर्चा की गई।

ये खबर भी पढ़े …दुनिया की सबसे लंबी रेल पटरी बनाने वाले यूआरएम के नाम दो और रिकॉर्ड

चर्चा के दौरान लंबित मामलों के निराकरण के लिए आवश्यक सुझाव दिए गए। बैठक में न्यायाधीशों और अधिकारियों ने बच्चों के हितों के संरक्षण के लिए बजट के सीधे प्रवाह, किशोर न्याय बोर्ड में वीडियो कांफ्रेसिंग सुविधा, पुलिस द्वारा समय पर चालान प्रस्तुत करना, पीड़ित की पहचान उजागर न करने जैसे कई सुझाव दिए।

ये खबर भी पढ़े …सेंट्रल विस्टा, बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट और अयोध्या राम मंदिर को सरिया देने वाले सेल के बार एंड रॉड मिल ने रचा नया कीर्तिमान

मोबाइल, मादक पदार्थों पर नियंत्रण जरूरी

तेजकुंवर नेताम ने कहा कि बच्चों को उनका पूरा अधिकार दिया जाना चाहिए। सुरक्षा, शिक्षा और सुपोषण हर बच्चें का अधिकार हैं। बच्चों की सुरक्षा और सुपोषण के लिए राज्य सरकार ने व्यवस्था की है, लेकिन इसके लिए समाज को भी आगे आना होगा। बेटियों की सुरक्षा हमारी प्राथमिकता होनी चाहिए। उन्होंने बच्चों में बढ़ते मोबाइल और मादक पदार्थों के नशे पर नियंत्रण के लिए न्यायाधीश भादुड़ी से अनुरोध किया।

ये खबर भी पढ़े …शिवनाथ नदी में डूब रहे थे लोग, कैन, बोतल और बर्तन से एसडीआरएफ ने बचा ली जान

नैतिक कहानियों, प्रेरक पुस्तकों का स्थान मोबाइल ने लिया

न्यायाधीश भादुड़ी ने बच्चों के हित के लिए कार्य कर रही सभी संबंधित संस्थाओं और इकाईयों को साथ लाने के लिए बाल संरक्षण आयोग की सराहना की और आयोजन के लिए बधाई दी। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा कानून बनाए गए है लेकिन उसका लाभ भी लोगों तक पहुंचना चाहिए। पहले नैतिक कहानियों की प्रेरक पुस्तकें बच्चों के हाथ में होती थी। अब उसका स्थान मोबाइल ने ले लिया। मोबाइल के दुष्प्रभाव को रोकना होगा। इससे बचपन खत्म हो रहा है। उन्होंने न्यायाधीशों और संबंधित अधिकारियों से कहा लोगों की समस्या के निराकरण के लिए आगे बढ़े और नए रास्ते तैयार करें।

ये खबर भी पढ़े …Aadhar Card बनवाए 10 साल हुए पूरे तो फौरन कराएं अपडेट, वरना होगा नुकसान

बड़े निवेश की जरूरत

जॉब जकारिया ने कहा कि बच्चों का अधिकार सुरक्षित करना हम सब की सामूहिक जिम्मेदारी है। इसके लिए व्यवहार और सोच में परिवर्तन का होना जरूरी है। बच्चों का अधिकार संरक्षण करने के लिए बड़ा निवेश होना चाहिए।

ये खबर भी पढ़े … Bhilai Steel Plant: ठेका मजदूरों की मजदूरी 6 रुपए बढ़ी, जानिए किसको-कितनी मिलेगी रकम

जिलेवार समीक्षा की गई ताकि व्यवस्था सुधार हो

बैठक के द्वितीय सत्र में जिलों के किशोर न्याय बोर्ड में लंबित प्रकरणों की जिलेवार समीक्षा की गई। इस दौरान न्यायिक अधिकारियों, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, विशेष किशोर पुलिस इकाई और बाल कल्याण समितियों के अधिकारियों द्वारा अपने जिलों की रिपोर्ट प्रस्तुत करते हुए बच्चों से संबंधित प्रकरणों की जानकारी दी गई।

ये खबर भी पढ़े …Cyber Crime: सरकारी नौकरी दिलाने का मैसेज वायरल, धोखाधड़ी से बचाया राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र ने, यहां करें आप रिपोर्ट

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here