Thomas Cup 2022: बैडमिंटन की विश्वविजेता टीम के सितारे ने अपनी जीत समर्पित की भिलाई के अभय को

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। पिछले हफ्ते भारत की पुरुष बैडमिंटन टीम ने विश्व बैडमिंटन में सबसे प्रतिष्ठित थॉमस कप फाइनल जीतकर इतिहास रच दिया। भारत को यह जीत लक्ष्य सेन, किदांबी श्रीकांत, सात्विक साईंराज रैंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी और एचएस प्रणोय के शानदार प्रदर्शन के बल पर मिली। इस टूर्नामेंट में सितारा खिलाड़ी बन कर उभरे एचएस प्रणोय ने अपने इस प्रदर्शन के लिए भिलाई के अभय पांडेय का आभार जताया है। उन्होंने अभय के अब तक के सहयोग व समर्थन के प्रति आभार व्यक्त करते हुए अपनी जीत समर्पित की है। प्रणोय ने सोशल मीडिया पर खास तौर पर अभय पांडेय के लिए अपनी भावनाएं व्यक्त की हैं।

ये खबर भी पढ़ें:सफर में बीएसपी कर्मी की बिगड़ी तबीयत, इलाज खर्च आया पौने चार लाख, प्रबंधन थमा रहा 42 हजार

उन्होंने सोशल मीडिया पोस्ट में लिखा है-”मैं अभय पांडेय का हृदय से आभार व्यक्त करता हूं। मेरे प्रबल प्रोत्साहनकर्ताओं में से, जो पिछले एक साल से मुझे वित्तीय सहायता और व अन्य मदद प्रदान कर रहे हैं। मेरी योग्यता पर उनके नि:शर्त विश्वास पर मैं इस जीत को खुशी-खुशी समर्पित करता हूं।”

उल्लेखनीय है कि सेमीफाइनल में भारत को निर्णायक मुकाबला जिताने वाले 29 वर्षीय एचएस प्रणोय सिंगल्स प्रतियोगिता के सफल खिलाड़ी हैं। 2010 यूथ ओलंपिक गेम्स में उन्होंने सिल्वर मेडल जीता था। साउथ एशियन गेम्स 2016 में उन्होंने मेंस टीम का गोल्ड और सिंगल्स का सिल्वर जीता था। 2018 एशियन चैंपियनशिप में वह ब्रॉन्ज और 2018 कॉमनवेल्थ गेम्स में मिक्स्ड टीम का गोल्ड जीत चुके हैं। सिंगल्स में उनका सर्वश्रेष्ठ रैंक आठ रहा है। उनके बेहतर खेल को देखते हुए देश आगे भी इतिहास रचने की उम्मीद कर रहा है।

ये खबर भी पढ़ें:  Gama Pehlwan 144th Birth Anniversary: आधा लीटर घी और छह देशी चिकन डकार जाते थे गामा पहलवान, अमृतसर में जन्म और लाहौर में हुआ था इंतकाल

सेक्टर-8 में उनका निवास था। उनके पिता कमलेश्वर पांडेय यहां एचएससीएल में इलेक्ट्रिकल इंजीनियर थे। अभय की स्कूली शिक्षा ईएमएमएस सेक्टर-9 और उसके बाद बीएसपी सीनियर सेकंडरी स्कूल सेक्टर-10 से हुई है। यहां 1989 में 12 वीं के बाद उन्होंने आईआईटी बॉम्बे से कंप्यूटर साइंस में बी-टेक किया। इसके बाद उन्होंने आईआईएम कोलकाता से एमबीए की डिग्री ली और फिर कई प्रमुख बहुराष्ट्रीय कंपनियों में सेवा देते हुए अब मुंबई में अपनी वित्तीय फर्म ए-91 पार्टनर चला रहे हैं।

ये खबर भी पढ़ें:रूस-यूक्रेन वार घटा रहा था बीएसपी का इस्पात उत्पादन, चार माह बाद चेकोस्लोवाकिया से आया हॉट ब्लास्ट वॉल्व, अब बढ़ेगा प्रोडक्शन

अभय अपने व्यवसाय के अलावा परोपकारी कार्यों में भी बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेते रहते हैं। इस्पात नगरी भिलाई में वंचित समुदाय के बच्चों की शिक्षा के लिए कार्य कर रहे भिलाई एजुकेशन चैरिटेबल ट्रस्ट (बीईसीटी) में अभय पांडेय भी एक ट्रस्टी हैं। जिसे उन्होंने अपने चार दोस्तों के साथ मिलकर बनाया है। उनका यह ट्रस्ट 2014 से भिलाई के मेधावी बच्चों को छात्रवृत्ति दे रहा है, वहीं खस्ताहाल स्कूलों की दशा सुधारने भी पहल कर रहा है। इस ट्रस्ट में हांगकांग में बैंक ऑफ अमेरिका में मैनेजिंग डायरेक्टर राजकुमार सिंघल, वकालत में स्नातकोत्तर और वर्तमान में सिंगापुर में रह रहीं लेखिका जूही शुक्ला और भिलाई से मैत्री एजुकेशनल सोसाइटी के डायरेक्टर सजीव सुधाकरन शामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!