सेल में एस-12 ग्रेड लाने और एस-11 व एस-12 को मर्ज कर ई-क्लस्टर बनाने का दिया फॉर्मूला, सेक्शन व शिफ्ट इंचार्ज होगा पदनाम

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड-सेल के कर्मचारियों के लिए और बड़ी घोषणा और मांग कर दी गई है। एस-12 ग्रेड की मांग की गई है। एस-11 और एस-12 ग्रेड को मर्ज करके एक नया ग्रेड बनाने का सुझाव दिया गया है। नया ई-कलस्टर बनाकर कर्मचारियों को इसके दायरे में लाने का ख्वाब दिखाया गया है। इस क्लस्टर के कर्मचारियों को सेक्शन इंचार्ज या शिफ्ट इंचार्ज का दर्जा दिया जाए। अधिकारियों की तर्ज पर सुविधा प्रदान की जाए।

ये सारी बातें स्टील इम्प्लाइज यूनियन के कार्यकारिणी की बैठक सेक्टर-3 कार्यालय में की गई, जिसमें संयंत्र में जनसंवाद कार्यक्रम की समीक्षा की गई। कर्मचारियों की भावना अनुरूप और आगे कार्य करने की योजना बनाई गई। महासचिव एसके बघेल ने कहा कि सेल के अधिकतर कर्मचारी 11-ग्रेड में कई साल से हैं। उन्हें आगे पदोन्नति कि कोई संभावनाएं नजर नहीं आ रही है। इंटक यूनियन ने अपने चार्टर आफ डिमांड में मांग की है कि एस-12 ग्रेड जल्द लाया जाए। इसके लिए इंटक यूनियन लगातार प्रयास कर रही है और भविष्य में इसे लागू करने के लिए कृत संकल्प है।

उप महासचिव विपिन बिहारी मिश्रा ने बताया की टाउनशिप में मरम्मत सही तरीके से नहीं हो पाने के कारण इंटक यूनियन की मांग पर प्रबंधन मरम्मत एवं पुताई के लिए 25, हजार सलाना देने के लिए कार्यवाही, अंतिम चरण में हैं जल्द ही इस पर रिजल्ट आने वाला है। ताम्रध्वज सिन्हा ने कहा 2003 के बाद भर्ती कर्मचारियों का प्रशिक्षण अवधि को पदोन्नति काल में जोड़ने के लिए जल्द कार्रवाई की जाए।

अतिरिक्त महासचिव संजय साहू ने कहा कि प्रशिक्षण अवधि को जोड़ने का कार्य अंतिम चरण में है। जल्द ही इस पर निर्णय हो जाएगा। इंटक यूनियन लगातार इस कार्य के लिए लगी हुई है। बैठक में पीयूषकर, पूरण वर्मा, रमेश तिवारी, एस. खिसरिया, सच्चिदानंद पांडेय, चंद्रशेखर पीवी राव, वंश बहादुर सिंह, तुरिंदर सिंह, शेखर शर्मा, अनिमेष पसीने, विपिन बिहारी मिश्रा, दीनानाथ सिंह, जीआर सुमन, जयंत बराठे, संतोष साव, सीपी वर्मा, शिव शंकर सिंह, आरके त्रिपाठी, रेशम राठौर उपस्थित थे।
बीएचईएल में इंटक यूनियन की जीत पर खुशी
23 जून को बीएचईएल में हुए सदस्यता परीक्षण चुनाव में 12 यूनिट में 9 यूनिट में इंटक यूनियन का नंबर वन स्थान रहा। पूरे भेल में इंटक यूनियन का मान्यता हो गया, जिससे भिलाई इंटक ने खुशी जाहिर की। भिलाई इस्पात संयंत्र में होने वाले आईटी एक्ट के चुनाव में 51% से अधिक मत प्राप्त करने के लिए सभी ने दृढ़ संकल्प लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!