सेल चेयरमैन की याददाश्त बढ़ाने 30 जून 2021 के हड़ताल की दिलाई याद, कहा-फिर से हड़ताल के लिए न करें मजबूर

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। बीएसपी वर्कर्स यूनियन ने सेल चेयरमैन सोमा मंडल की याददाश्त को ताजा करने के लिए चिट्‌ठी लिखी है। इसे आइआर विभाग के सीनियर मैनेजर रोहित हरित को सौंपा गया है ताकि प्रबंधन सेल कारपोरेट आफिस भेज सके। बीएसपी वर्कर्स यूनियन प्रतिनिधिमंडल ने सेल प्रबंधन को याद दिलाते हुए कहा की जिन मांगों को लेकर स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया सेल के लगभग सभी स्टील प्लांट के कर्मचारियों ने 30 जून 2021 को ऐतिहासिक हड़ताल किया था। वह सभी मुद्दे अभी भी अधूरे पड़े हुए हैं।

ये खबर भी पढ़ें: बोकारो स्टील प्लांट ने ग्लोबल एक्टिव पार्टनर सिटी के तहत पहले प्ले ग्राउंड का दिया तोहफा

कर्मचारियों को 15 % एमजीबी, 35% पर्क्स अभी भी लागू नहीं हो पाए हैं, उन सारे मुद्दों को प्रबंधन के द्वारा पूरा किया जाए। इसके लिए कर्मचारियों ने अपने 1 दिन के वेतन का नुकसान भी उठाया था। बावजूद स्थिति तस की तस है। कर्मचारियों का वेतन समझौता अभी भी अधूरा पड़ा हुआ है। कर्मचारियों को एक तो 13 % एमजीबी एवं 26.5 प्रतिशत पर्क्स दिया गया, जो कि उनकी मांग से एवं उनके हक से बहुत कम है। उसके बावजूद अभी तक पे-स्केल का निर्धारण नहीं हो पाया है। कर्मचारियों का बकाया 39 महीने के एरियर को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया है, जो कर्मचारियों को आक्रोशित करने का काम कर रहा है।

ये खबर भी पढ़ें: BSP Union Election 2022: भिलाई स्टील प्लांट के 13400 कर्मचारी 30 जुलाई को चुनेंगे मान्यता प्राप्त यूनियन, रिटायर्ड कर्मी भी डालेंगे वोट, देर रात आएगा रिजल्ट, आचार संहिता लागू

बीएसपी वर्कर्स यूनियन ने सेल चेयरमैन के साथ-साथ डायरेक्टर इंचार्ज भिलाई इस्पात संयंत्र को भी याद दिलाया कि कर्मचारियों के जायज मुद्दे जो कि उनका हक है, उस पर प्रबंधन को विशेष ध्यान देने की जरूरत है। ऐसा ना हो कि सेल कर्मचारी फिर से आक्रोशित होकर 30 जून 2021 जैसी हड़ताल करने के लिए मजबूर हो जाए।

बीएसपी वर्कर्स यूनियन के अतिरिक्त महासचिव शिव बहादुर सिंह ने सेल प्रबंधन को आगाह करते हुए कहा है कि कर्मचारियों का जायज हक उनको जल्द से जल्द दिया जाए। 15% एमजीबी, 35% पर्क्स कर्मचारियों के वेतन का निर्धारण किया जाए। ग्रेच्युटी में लगाई गई सिलिंग को समाप्त किया जाए। डिप्लोमा इंजीनियर युवा कर्मचारियों को जूनियर इंजीनियर का सम्मानजनक पदनाम दिया जाए।

कर्मचारियों को बकाया राशि का एरियर का भुगतान रक्षाबंधन के पूर्व अनिवार्य रूप से एक साथ किया जाए। 2003 से भर्ती सभी कर्मचारियों के ट्रेनिंग पीरियड को उनके सर्विस पीरियड के साथ जोड़कर उन्हें प्रमोशन का लाभ दिया जाए। भिलाई इस्पात संयंत्र में लागू होने जा रही नई प्रमोशन पॉलिसी को समाप्त किया जाए। नई भर्ती होने वाले ट्रेनीज को उनके बढ़े स्टाइपेंड 2000 के हिसाब से संपूर्ण एरियर का भुगतान किया जाए।

ये खबर भी पढ़ें: SAIL NEWS: एनजेसीएस की बैठक 19 जुलाई को, बकाया एरियर और पे-स्केल पर लगेगी मुहर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!