टाउनशिप के कर्मचारियों को चाहिए सर्विसेस की तरह 80% इंसेंटिव और नॉन फाइनेंसियल मोटिवेशन स्कीम का गिफ्ट

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। भिलाई टाउनशिप के कर्मचारियों को भी सर्विसेस की तरह 80 प्रतिशत इंसेंटिव की मांग की जा रही है। स्टील इम्प्लाइज यूनियन-इंटक टाउनशिप विभाग की टीम ने कर्मचारियों के साथ बैठक की, जिसमें कर्मचारियों की समस्याओं को लेकर चर्चा की गई। बैठक में टाउनशिप के कर्मचारियों ने कहा कि टाउनशिप का कर्मचारी वर्क्स की तरह कार्य करता है, लेकिन उन्हें नॉन वर्क्स की श्रेणी में रखा गया है।

ये खबर भी पढ़ें:वाह! चीन की चाल को सेल-बीएसपी ने किया चित, थाईलैंड, नेपाल, यूएई तक भेजा एक लाख टन से ज्यादा स्टील

उन्हें नॉन वर्क्स की तरह छुट्टी नहीं मिलती। न ही उनकी तरह कार्य है। हमें भी वर्क्स की तरह कार्य करना पड़ता है और तीनों शिफ्ट में कार्य करना पड़ता है। इसलिए टाउनशिप के कर्मचारियों ने कहा कि हमें सर्विसेस की भांति 80% इंसेंटिव दिया जाए। टाउनशिप के कर्मचारियों को नॉन फाइनेंसियल मोटिवेशन स्कीम के तहत गिफ्ट देने की भी मांग की गई है।

अतिरिक्त महासचिव संजय साहू ने कहा कि टाउनशिप के कर्मचारियों का डीपीसी दिसंबर 2020 से नहीं हुआ है और यहां का प्रमोशन भी रुका हुआ है। इसलिए यहां पर जल्द नई नॉन एक्जीक्यूटिव प्रमोशन पॉलिसी लागू किया जाए, जिससे ज्यादा से ज्यादा कर्मचारियों को पदोन्नति का लाभ मिले।

ये खबर भी पढ़ें: सेल कर्मचारी को एक घंटे तक बदमाशों ने किया टॉर्चर, हॉकी से की पिटाई, ब्लैकमेल करने जबरन बोलवा रहे थे छेड़खानी की बात

टाउनशिप के कर्मचारियों ने कहा कि कोविड-19 के संक्रमण के उपरांत इंटक यूनियन के प्रयास से 2 साल में बीएसपी कर्मचारियों के हित में बहुत सारे कार्य हुए हैं। सेल के कर्मचारियों के लिए सेल पेंशन स्कीम लागू किया गया एवं ईएल इनकैशमेंट चालू कराया गया। 39 महीने का एरियर दिलाने के लिए, इंटक यूनियन लगातार प्रयास कर रही है और एरियर दिलाने के लिए कटिबद्ध है। बैठक में उप महासचिव विपिन बिहारी मिश्रा, वरिष्ठ सचिव रविंद्र नाथ, सचिव राम मूर्ति, प्रकाश महाले, ज्ञानेंद्र पांडे, अशोक चंद्राकर, शरद आदि उपस्थित थे।

ये खबर भी पढ़ें: ठेका मजदूरों का प्रदर्शन सेल की हर इकाइयों में, लेकिन बवाल सिर्फ भिलाई में, धक्का-मुक्की से बिगड़े हालात, देखिए तस्वीरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!