सेल में गलत हुआ वेज एग्रीमेंट, फिर से चर्चा कर प्रबंधन सुधारे खामियां

सूचनाजी न्यूज, दुर्गापुर। स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड-सेल के वेज एग्रीमेंट को रद्द करने की मांग तेज हो गई है। अलग-अलग फोरम से मांग की जा रही है। हिंदुस्तान स्टील इम्प्लाइज यूनियन दुर्गापुर और यूनाइटेड कांट्रैक्ट वर्कर्स यूनियन ने मिलकर आंदोलन शुरू कर दिया है। प्रबंधन को चेतावनी दी गई कि एंटी वर्कर एग्रीमेंट पर अगर, अमल किया गया तो सेल की हर इकाइयों में आंदोलन तेज कर दिया जाएगा। एमओयू से कर्मचारियों को नुकसान हो रहा है। वेज एग्रीमेंट पर सीटू ने साइन नहीं किया है। इसलिए इस एग्रीमेंट के बजाय फिर से सभी यूनियनों को साथ लेकर चर्चा की जाए।

ये खबर भी पढ़ें: डायरेक्टर पर्सनल केके सिंह के चार्ज संभालते ही घोषित होगी एनजेसीएस बैठक की तारीख, सेल प्रबंधन इंतजार में…

दुर्गापुर स्टील प्लांट के बाहर गुरुवार दोपहर दो से शाम पांच बजे तक सीटू व सीटू ठेका यूनियन ने संयुक्त रूप से प्रदर्शन किया। इस दौरान वक्ताओं ने कहा कि एमजीबी और एरियर को लेकर उठ रहे सवालों का समाधान किया जाए। एक जनवरी 2017 से एरियर का भुगतान किया जाए। बगैर एरियर एग्रीमेंट मान्य ही नहीं है। एचआरए, ग्रेच्युटी, एलाउंस आदि का मुद्दा हल नहीं किया गया है। इसलिए फुल एनजेसीएस की बैठक बुलाकर फिर से वेतन समझौते पर चर्चा की जाए और प्रबंधन अपनी खामियों को सुधारे।

ये खबर भी पढ़ें: पहले पता करें चक्रवृद्धि ब्याज सबसे ज्यादा कौन सी क्रेडिट सोसाइटी दे रही, फिर बनें सदस्य

अध्यक्ष विश्वरूप बनर्जी, एसएफडब्ल्यूआई के महासिचव ललित मोहन मिश्र, निमई घोष,सीमंतो चटर्जी, संदीप पाल, देवाशीष पाल आदि ने संबोधित किया। इसी बीच ईडी पीएंड मणिराजू से मुलाकात के लिए एक प्रतिनिधिमंडल पहुंचा। प्रबंधन की तरफ से जानकारी दी गई कि 15 जुलाई तक एनजेसीएस की बैठक होने की उम्मीद है। एसएफडब्ल्यूआई के महासचिव ललित मोहन मिश्र ने बताया कि वेज एग्रीमेंट के खिलाफ सीटू है।

ये खबर भी पढ़ें: भिलाई स्टील प्लांट के बार एंड रॉड मिल में लगी भीषण आग, इलेक्ट्रिकल इक्यूपमेंट बाइपास कर छह घंटे में सरिया उत्पादन बहाल

एंटी वर्कर फैसला एग्रीमेंट में किया गया है। इसलिए सीटू फिर से चर्चा करने की मांग कर रहा है। एक जनवरी 2017 से एरियर चाहिए। बिना एरियर कोई एग्रीमेंट नहीं हुआ। एमओयू पर साइन करने वाली यूनियनों ने 13 प्रतिशत एमजीबी को स्वीकार कर लिया। सीटू ने इस पर दो इंक्रीमेंट देने की मांग कि ताकि कर्मचारियों को होने वाले नुकसान की भरपाई की जा सके। इंक्रीमेंट और एचआर देना होगा।

ये खबर भी पढ़ें: अभियान चलाकर 350 मकानों से खदेड़े गए कब्जेदार, 100 को बेदखली का नोटिस, सिविक सेंटर में कब्जामुक्त जमीन की फेंसिंग शुरू

वहीं, ठेका मजदूरों का वेज स्ट्रक्चर बनाने की मांग की गई है। ठेका मजदूरों को बेसिक, एचआर आदि का लाभ दिया जाए। इसी तरह सेल की हर इकाइयों में अलग-अलग एलाउंस है। अधिकारियों को लाखों रुपए का फायदा कराया गया। वहीं, ठेका मजदूरों को महज 500 रुपए तक बढ़ाकर प्रबंधन क्या साबित करना चाहता है।

ये खबर भी पढ़ें: सेल ने हॉट मेटल, क्रूड स्टील और सेलेबल स्टील प्रोडक्शन में लगाई छलांग

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!