West Central Railway: 48946 रेल कर्मचारियों को 85 करोड़ 6 लाख का बोनस भुगतान, 78 दिन के वेतन के बराबर मिला बोनस, खिल उठे चेहरे

0
railway bonus
भोपाल, जबलपुर, कोटा मण्डल के रेल परिवारों के चेहरों पर मुस्कान। रेल प्रशासन ने रेलकर्मियों एवं उनके परिजनों को नवरात्र एवं दशहरे की शुभकामनाएं दीं।
AD DESCRIPTION

रेल कर्मचारियों को उत्पादकता संबद्ध बोनस यानि प्रोडक्टिीवीटी लिंक्ड बोनस (पीएलबी) का भुगतान कर दिया है।

रेल कर्मचारियों ने यात्री और माल सेवाओं के कार्यनिष्पादन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, जिसने अर्थव्यवस्था के लिए उत्प्रेरक के रूप में भी काम किया है।

सूचनाजी न्यूज, जबलपुर। रेल कर्मचारियों के लिए मंगलवार का दिन खुशियों भरा रहा। पश्चिम मध्य रेल के कर्मचारियों को बोनस की राशि का भुगतान कर दिया गया है। 78 दिन के वेतन के बराबर बोनस दिया गया है। इस बात से ट्रेड यूनियन संग कर्मचारियों के चेहरे खिल उठे हैं। रेलवे प्रशासन ने दुर्गा पूजा एवं दशहरे के त्यौहारों के पावन अवसर पर पात्र सभी अराजपत्रित रेल कर्मचारियों को 78 दिन के वेतन के बराबर उत्पादकता संबद्ध बोनस यानि प्रोडक्टिीवीटी लिंक्ड बोनस (पीएलबी) का भुगतान कर दिया है।

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

ये खबर भी पढ़ें…दुर्गापुर स्टील प्लांट में बोनस आंदोलन चलाने वाले 3 यूनियन के 4 नेताओ पर गिरी गाज, सातों यूनियन ने प्रबंधन को ललकारा, 6 को बड़ा प्रदर्शन

इस निर्णय से पश्चिम मध्य रेलवे के भोपाल, जबलपुर, कोटा मण्डलों में कार्यरत रेलकर्मियों के अलावा कोटा वैगन रिपेयर वर्कशॉप, कोच पुनर्मरम्मत वर्कशॉप भोपाल में कार्यरत कुल 48946 अराजपत्रित रेल कर्मचारी लाभान्वित हुए हैं।

ये खबर भी पढ़ें…SAIL बोनस: सीटू बोला-45 हजार से कम में नहीं करेंगे एग्रीमेंट पर साइन, सभी यूनियन एकजुट

पश्चिम मध्य रेल, जबलपुर के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी राहुल जयपुरियार ने बताया कि यह भुगतान दशहरा/दुर्गा पूजा से पहले एक ही वर्किंग डे में लेखा एवं कार्मिक विभाग के प्रयासों से संभव हो सका है। इससे त्योहारों के अवसर पर लाखों रेल परिवारों के चेहरों पर मुस्कान आयी है। रेल प्रशासन ने रेलकर्मियों एवं उनके परिजनों को नवरात्र एवं दशहरे की शुभकामनाएँ दी हैं।

ये खबर भी पढ़ें…Breaking News: भिलाई स्टील प्लांट के प्लेट मिल ने तोड़ा 8 साल पुराना रिकॉर्ड, एक दिन 5900 टन रोलिंग

रेल कर्मचारियों ने यात्री और माल सेवाओं के कार्यनिष्पादन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, जिसने अर्थव्यवस्था के लिए उत्प्रेरक के रूप में भी काम किया है। वास्तव में, रेल कर्मचारियों ने लॉकडाउन अवधि के दौरान भी भोजन, उर्वरक, कोयला और अन्य वस्तुओं जैसी आवश्यक वस्तुओं का निर्बाध संचालन सुनिश्चित किया।

रेलकर्मियों ने सुनिश्चित किया कि प्रचालन के क्षेत्र में आवश्यक वस्तुओं की कोई कमी ना रहे और दिनरात काम में जुटे रहे। इसके परिणामस्वरूप प्रत्येक पात्र रेल कर्मचारी को 78 दिन के लिए देय अधिकतम राशि 17,951 रुपये प्रदान की गयी है।

ये खबर भी पढ़ें…Coal India News: कोल इंडिया का प्रोडक्शन बढ़ा, कोयला आधारित बिजली उत्पादन 2021 की तुलना में सितंबर-22 में 13.40% ज्यादा

जानिए किस मंडल के हिस्से कितनी राशि आई

पश्चिम मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी के मुताबिक कोटा मण्डल के 12489 कर्मचारियों को 21 करोड़ 84 लाख 06 हजार 992, भोपाल मण्डल के 13993 रेलकर्मियों को 24 करोड़ 25 लाख, 38 हजार 276, जबलपुर मण्डल के 17769 रेलकर्मियों को 30 करोड़, 81 लाख 14 हजार 620, मुख्यालय में कार्यरत 997 रेलकर्मियों को 1 करोड़ 76 लाख 7 हजार 137 के अलावा कोटा वर्कशॉप में कार्यरत 1967 रेलकर्मियों को 3 करोड़ 32 लाख 54 हजार 407 भोपाल वर्कशॉप में कार्यरत 1731 रेलकर्मियों को 3 करोड़ 7 लाख 5 हजार 675 रूपए का भुगतान रेल प्रशासन ने कर दिया है। इस तरह पमरे के 48946 रेल कर्मचारियों को कुल 85 करोड़ 06 लाख 27 हजार 107 रुपये का भुगतान किया गया है।

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here