SAIL BSP के GM-CGM को इलेक्ट्रिक कार, सोशल मीडिया पर प्रहार, कर्मचारियों को चाहिए TATA Steel जैसा इलेक्ट्रिक बाइक का उपहार

Electric car to SAIL GM-CGM, attack on social media, employees want gift of electric bike like TATA Steel 1
  • टाटा स्टील अपने कर्मचारियों को संयंत्र आने जाने के लिए इलेक्ट्रिक बस मुहैया करा रही है। इलेक्ट्रिक कार खरीदने में सब्सिडी देने जा रही है।

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। पिछले दिनों भिलाई स्टील प्लांट ने सीजीएम सहित अन्य अधिकारियों के लिए 42 नई इलेक्ट्रिक कार खरीदनी शुरू की। पर्यावरण सुरक्षा की दुहाई दी गई। अब इसी पर कर्मचारी वर्ग ने अंगड़ाई लेनी शुरू कर दी है। सोशल मीडिया पर एक झलक मार लीजिए, जहां भिलाई स्टील प्लांट के तमाम दावों की हवा निकालने वाले पोस्ट दिख जाएंगे। हर कोई बीएसपी के फैसले पर सवाल उठा रहा है। कमेंट हो रहे हैं।

AD DESCRIPTION AD DESCRIPTION

ये खबर भी पढ़ें: SAIL-NMDC के अधिकारियों को लाखों का नुकसान, BSP OA बोला-मंत्रीजी कीजिए समाधान

AD DESCRIPTION

Suchnaji.com सोशल मीडिया पर वायरल इस मैसेज को प्रस्तुत कर रहा है। उसी तरह, जिस तरह बीएसपी जनसंपर्क विभाग की ओर से जारी होने वाली प्रेस विज्ञप्ति को प्रसारित करता है। अब इसे कोई सिरफिरा और चाटुकार अधिकारी कंपनी की छवि खराब करने की संज्ञा देने की जहमत न उठाए…।

AD DESCRIPTION

ये खबर भी पढ़ें:  भारतीय नौसेना की पंडुब्बियां टिकी हैं Rourkela Steel Plant के स्पेशल प्लेट पर

AD DESCRIPTION

सोशल मीडिया पर लिखा गया कि नई इलेक्ट्रिक कार पर्यावरण की सुरक्षा या अपनी खुद के ऐश-ओ-आराम की सुरक्षा के लिए है। कर्मचारी ने लिखा-पिछले दिनों भिलाई में सीजीएम के लिए “टाटा टिगोर” इलेक्ट्रिक कार खरीदी गई। तर्क पर्यावरण सुरक्षा का दिया गया। अब आइए थोड़ा पीछे चलते हैं। लगभग तीन-चार साल पहले…। सभी यूनिट के सीजीएम को होंडा अमेज तथा ईडी को सियाज कार लीज पर लेकर दिया गया।

ये खबर भी पढ़ें: BSP Summer Camp 2023: 120 कोच सीखा रहे 24 खेल, जानिए कहां-कहां फ्री में बच्चे सीख रहे, 20 को उद्घाटन

अब खदीदने के बदले लीज ही क्यो? कंपनी द्वारा गाड़ी खरीदने पर मिनिमम उसको 15 साल तो चलाना ही होता। सरकारी गाड़ी का प्रयोगकर्ता 4-5 साल में उसको खटाड़ा बना देता है, बाद वाले सीजीएम और ईडी को मजबूरी में उसी गाड़ी में चढ़ना होता। इसलिए वर्तमान साहब ने भविष्य के साहबों के हितों को ध्यान में रखा कि कार बनाने वाली कंपनी से ही चार पांच साल के लीज पर ले लिया जाए, ताकि हमेशा कार का नया मॉडल पर चढ़ने का लुत्फ उठाते रहा जाए।

ये खबर भी पढ़ें: Bokaro Steel Plant: स्पोर्ट्स समर कैंप शुरू, 3 जून तक 478 बच्चे सीखेंगे हुनर

कर्मचारी ने मन की बात लिखते हुए कहा-पर्यावरण सुरक्षा बहाना है, बाकि कंपनी के पैसो से खुद को आराम पहुंचाना है। 50000-100000 रुपया मे ई बाईक भी आती है। कर्मचारियों के लिए क्यों नहीं लाया जा रहा है। लाखों टन कार्बन उत्सर्जन कम होता। वहीं, टाटा स्टील अपने कर्मचारियों को संयंत्र आने जाने के लिए इलेक्ट्रिक बस मुहैया करा रही है। इलेक्ट्रिक कार खरीदने में सब्सिडी देने जा रही है।

ये खबर भी पढ़ें:  लाइसेंस पर BSP आवास: तो क्या DSP के तर्ज पर भिलाई स्टील प्लांट देने जा रहा लाइसेंस पर 650 स्क्वायर फीट तक आवास, इंटक ने DIC को भेजी चिट्‌ठी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!