Suchnaji

EPS 95 पेंशन, SAIL, रेलवे, कोल पर कई प्रस्ताव छत्तीसगढ़ इंटक की कार्यकारिणी में पारित

EPS 95 पेंशन, SAIL, रेलवे, कोल पर कई प्रस्ताव छत्तीसगढ़ इंटक की कार्यकारिणी में पारित
  • राष्ट्रीय महासचिव एवं छत्तीसगढ़ प्रदेश इंटर के अध्यक्ष डॉ संजय कुमार सिंह शामिल हुए।

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। स्टील ठेका श्रमिक यूनियन इंटक भिलाई के तत्वाधान में छत्तीसगढ़ प्रदेश इंटक की 44वीं कार्यकारिणी की बैठक एसएनजी विद्यापीठ सेक्टर 4 में हुई। अध्यक्षता इंटक के राष्ट्रीय महासचिव एवं छत्तीसगढ़ प्रदेश इंटर के अध्यक्ष डॉ संजय कुमार सिंह ने किया। स्वागत भाषण स्टील ठेका श्रमिक यूनियन इंटक के अध्यक्ष संजय कुमार साहू ने किया।

AD DESCRIPTION

ये खबर भी पढ़ें : EPS 95 पेंशन: पेंशनर्स का आखिरी पत्र PM मोदी के नाम, पढ़िए मजमून

कार्यक्रम में श्रमिकों के हितों को बचाने के लिए उद्योगों में ठेका प्रथा को सरकार द्वारा बढ़ाने, नियमित कर्मचारियों की भर्ती नहीं करने, आने वाले समय में ठेका श्रमिकों को संगठित कर उनको समान काम समान वेतन दिलाने, स्थाई प्रकृति के कार्य को लगातार ठेका श्रमिकों से करने को लेकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले, जिसमें महानदी कोल्ड फील्ड में ठेका श्रमिकों को नियमित किया गया है।

ये खबर भी पढ़ें : EPS 95 के बूढ़े-बुजुर्ग Pensioners के राष्ट्रव्यापी आन्दोलन को EPFO-सरकार का ठेंगा…!

इस प्रकार सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों में स्थाई प्रकृति में कार्य करने वाले ठेका श्रमिकों नियमित करने के लिए कानूनी लड़ाई लड़ने का संकल्प पारित किया गया है। चार मजदूर विरोधी श्रम कानून को वापस लेने एवं बिना श्रम संगठनों के बिना विचार विमर्श पारित करने का भी विरोध करने।

ईपीएस 95 के तहत न्यूनतम पेंशन को 9000 रुपए प्रति माह तक बढ़ाया जाए तथा इसे महंगाई भत्ते के साथ में जोड़ा जाए। सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के विनिवेश और निजीकरण का विरोध किया जाएगा। मनरेगा को सुदृढ़ बनाते हुए प्रति व्यक्ति साल में 200 दिन का रोजगार एवं प्रतिदिन 600 रुपए की मजदूरी तय किया जाए।

ये खबर भी पढ़ें : EPFO और सरकार का सबसे आसान टार्गेट पेंशनर्स, EPS 95 पेंशन पर वरदान-श्राप तक की आई बात

बोनस की सीलिंग को समाप्त करें

सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों एवं निजी उद्योगों में बोनस की सीलिंग को समाप्त किया जाए एवं लाभ में श्रमिकों को भागीदारी दी जाए।
सभी उद्योगों में न्यूनतम वेतन 26000 रुपया प्रति माह निधारित किया जाए। ठेका प्रथा को समाप्त कर वेतन एवं सेवा शर्तों को सम्मान किया जाए। असंगठित क्षेत्र जैसे आशा कार्यकर्ता आंगनवाड़ी , मध्यान भोजन कार्यकर्ता गिग वर्क्स आदि के लिए नई यूनियन का गठन कर उनको इंटक के झंडे तले संगठित किया जाए।

ये खबर भी पढ़ें :  EPS 95 Pension News: पेंशनभोगी सरकार से नहीं मांग रहे भीख, कंट्रीब्यूशन का ब्याज ही बनता है 15000

सभी ट्रेड यूनियनों को जमीनी स्तर पर एकता को मजबूत कर एवं सरकार की कर्मचारी विरोधी नीति का विरोध करने के लिए एकजुट होकर आंदोलन को मजबूत करने। छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा सीजीआईआर अधिनियम को वापस लेने के निर्णय पर निंदा प्रस्ताव पारित किया गया।

श्रमिक न्याय गारंटी एवं महिला न्याय गारंटी का समर्थन किया

कांग्रेस द्वारा घोषित श्रमिक न्याय गारंटी एवं महिला न्याय गारंटी का समर्थन किया गया। आगामी लोकसभा चुनाव में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस को पूर्ण समर्थन देने का संकल्प लिया गया।

ये खबर भी पढ़ें :  EPS 95 पेंशन: EPFO, पीएम मोदी की चुप्पी, अंदर ही अंदर खा रही पेंशनर्स को

राज्य सरकार द्वारा सुरक्षा एवं स्वास्थ्य के लिए बने कानून का कार्य स्थलों पर कड़ाई से पालन सुनिश्चित किया जाए प्रदेश में बढ़ती बेरोजगारी पर रोक लगाने के लिए राज्य सरकार विशेष भर्ती अभियान चलाकर सभी स्वीकृत एवं रिक्त पदों पर जल्द से जल्द भर्ती सुनिश्चित करें।

ठेका श्रमिकों के लिए एक नीति निर्धारण

सेल में सभी यूनिटों को मिलाकर के ठेका श्रमिकों के लिए एक नीति निर्धारण बनाकर श्रमिकों को न्याय दिलाने के लिए प्रयास करने का निर्णय लिया गया। इंटक के राष्ट्रीय महासचिव डाक्टर संजय कुमार सिंह के अध्यक्षता में सभी प्रस्तावों को सर्वसम्मति से पास किया गया।

ये खबर भी पढ़ें :  EPS 95 पेंशन: EPFO, पीएम मोदी की चुप्पी, अंदर ही अंदर खा रही पेंशनर्स को

सेल के वेतन निर्धारण पर भी चर्चा

आने वाले समय में सेल में वेतन निर्धारण के विलंब पर भी चिंता व्यक्त की गई एवं जल्द से जल्द राष्ट्रीय अध्यक्ष इंटक डॉक्टर जी संजीव रेड्डी  के मार्गदर्शन में 39 महीने का एरियर एवं अन्य बकाया, मुद्दों को पूर्ण कराने का दावा किया गया।

कोयला, रेलवे, बिजली और माइंस में श्रमिकों के बेहतरी के लिए संगठन को और मजबूत कर अधिक से अधिक उन्हें सुविधाएं दिलाई जाएगी एवं ठेका श्रमिकों के लिए वेतन एवं सुविधाओं में बढ़ोतरी के लिए एक कमेटी बनाकर राष्ट्रीय स्तर पर नीति निर्धारण बनाई जाएगी।

ये खबर भी पढ़ें :  Executive Of The Quarter Award: बोकारो स्टील प्लांट के अधिकारियों को खाते में आया अवॉर्ड

जानिए प्रदेश कार्यकारिणी बैठक में कौन-कौन था

कार्यक्रम का संचालन छत्तीसगढ़ प्रदेश इंटक के मुख्य महासचिव आशीष यादव ने किया एवं आभार प्रदर्शन स्टील ठेका श्रमिक यूनियन के उपाध्यक्ष सी.पी वर्मा ने किया। भिलाई के विधायक देवेंद्र यादव के प्रतिनिधि के रूप में विधायक प्रतिनिधि राजेंद्र परगनिया भी उपस्थित थे।

कार्यकारिणी की बैठक में वरिष्ठ उपाध्यक्ष रामअवतार अलगमकर, पीयूषकर, एसके बघेल, गोपाल नारायण सिंह, शिवदयाल, समीर पांडे, आरसी मिश्रा, जयप्रकाश यादव, अभय सिंह, संजय कुमार साहू, वंश बहादुर सिंह, कुसुम द्विवेदी, कोषाध्यक्ष तपसदत्ता, वरिष्ठ सचिव चंद्रशेखर सिंह, आरके सिंह, जीके चंद्रवंशी, दुर्ग जिला के अध्यक्ष पूरन वर्मा, एवं प्रदेश के पदाधिकारी एवं जिला अध्यक्ष मंगल सिंह अजय यादव, डॉक्टर राजपूत एवं कोल माइंस, मेटल माइंस, बालको, एनटीपीसी, मेटल माइंस बचेली, प्रकाश स्पंज आयरन, स्टील एम्पलाई यूनियन इंटक भिलाई एवं स्टील ठेका श्रमिक यूनियन के दीनानाथ सिंह, मनोहर लाल, आर दिनेश, सुरेश, श्याम कुमार, गुलाब दास, गुरुदेव साहू, जसबीर सिंह, रिखीराम साहू, सुरेश दास, कान्हा राम, दमन लाल, नारायण साहू एवं कार्यकारिणी के सदस्य उपस्थित थे।

ये खबर भी पढ़ें : EPS 95 पेंशनभोगी श्रम मंत्री को हराने की बिछा रहे बिसात, NOTA की बात