Suchnaji

SAIL Rourkela Steel Plant और IIM Rourkela Chapter के 100 एक्सपर्ट ने इंडस्ट्री को बढ़ावा देने किया Technical Talks

SAIL Rourkela Steel Plant और IIM Rourkela Chapter के 100 एक्सपर्ट ने इंडस्ट्री को बढ़ावा देने किया Technical Talks
  • विचार विमर्श सत्र हुआ, जहां तकनीकी-आर्थिक मापदंडों में सुधार के लिए विचारों का आदान-प्रदान किया गया।

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। भारतीय धातु संस्थान राउरकेला शाखा द्वारा अनुसंधान और नियंत्रण प्रयोगशाला में एक तकनीकी वार्ता का आयोजन किया गया था। कार्यपालक निदेशक (संकार्य) और अध्यक्ष आईआईएम, राउरकेला शाखा एसआर सूर्यवंशी बतौर मुख्य अतिथि बैठक की अध्यक्षता की।

AD DESCRIPTION R.O. No. 12697/ 111

कार्यक्रम में आरएसपी और राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान के लगभग 100 प्रतिनिधियों ने भाग लिया। इस अवसर पर बोलते हुए एसआर सूर्यवंशी ने इस्पात निर्माण में लगे इंजीनियरों और तकनीशियनों के लिए इस तरह की वार्ता आयोजित करने के लिए आईआईएम, राउरकेला शाखा की सराहना की।

AD DESCRIPTION R.O. No.12697/ 111

उन्होंने कहा कि इस तरह की बातचीत से वृहद और सूक्ष्म परिप्रेक्ष्य में बेहतर अवलोकन प्राप्त करने में मदद मिलेगी जिससे संयंत्र के समग्र प्रदर्शन में वृद्धि होगी। इस अवसर पर न्यू लाइफ के सदस्यों को सम्मानित भी किया गया।

उप प्रबंधक (आरसीएल, आरएसपी) बाटा कृष्ण गिरी, द्वारा “स्टील मानकों की समझ और (आरएसपी में उत्पादित) स्टील के विभिन्न ग्रेड के नामकरण-उनके गुणों, परीक्षण और अनुप्रयोगों की समझ” पर प्रस्तुतियां दी गईं। मेसर्स वेओलिया के क्षेत्रीय सेल्स एवं ऑपरेशंस (पूर्व) सुदीप मैती ने ‘जल उपचार’ में कार्बन डाईओक्साईड इंजेक्शन द्वारा स्टील मेल्टिंग शॉप्स में पानी की गुणवत्ता और स्क्रबर प्रबंधन में सुधार’ की विधि के बारे में बताया।

टाटा स्टील के पूर्व वरिष्ठ टेक्नोलॉजिस्ट और मेटलर्जिस्ट अभिक राय चौधरी द्वारा लिया गया तीसरा सत्र ब्लास्ट फर्नेस प्रोसेस मॉडल जैसे सिलिकॉन प्रेडिक्शन और डिजिटलाइजेशन आदि पर आधारित था।

इसके बाद विचार विमर्श सत्र हुआ, जहां तकनीकी-आर्थिक मापदंडों में सुधार के लिए विचारों का आदान-प्रदान किया गया। मुख्य महाप्रबंधक (गुणवत्ता) और मानद सचिव (आईआईएम, राउरकेला शाखा) असित चंद्र सरकार ने सभा का स्वागत किया। महाप्रबंधक (आरसीएल) आशीष रंजन ने औपचारिक धन्यवाद ज्ञापित किया, जबकि महाप्रबंधक (कोक ओवन) बिस्वजीत मिश्रा ने इस कार्यक्रम का संचालन किया।