Suchnaji

Coal India ने 5 साल में 23% बढ़ाया कोयला प्रोडक्शन, PM Modi भी गदगद

Coal India ने 5 साल में 23% बढ़ाया कोयला प्रोडक्शन, PM Modi भी गदगद
  • वित्त वर्ष 2018-2019 में 728.72 मिलियन टन की तुलना में वित्त वर्ष 2022-23 में भारत के कुल कोयला उत्पादन में लगभग 22.6 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 893.08 मिलियन टन का उत्पादन हुआ।

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। भारत में कोयला उत्पादन का ग्राफ तेजी से बढ़ा है। पिछले पांच वर्ष में 23 प्रतिशत की छलांग लगाई गई है। इससे पीएम नरेंद्र मोदी भी गदगद हो गए हैं। ट्वीट कर उन्होंने कोल इंडिया की उपलब्धि पर कार्मिकों को बधाई दी है। कोयला मंत्रालय ने एक ट्वीट में कहा कि वित्त वर्ष 2022-23 में भारत का कुल कोयला उत्पादन में ऊंची छलांग लगाते हुए 23 प्रतिशत वृद्धि के साथ 893.08 मीट्रिक टन हो गया है, जबकि वित्त वर्ष 2018-2019 में 728.72 मीट्रिक टन कोयले का उत्पादन हुआ था। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कोयला मंत्रालय के ट्वीट का उत्तर देते हुए एक ट्वीट में कहा-इस क्षेत्र के लिए और भारत की समग्र आर्थिक प्रगति के लिए भी बहुत अच्छी खबर है।

AD DESCRIPTION R.O. No. 12697/ 111

वित्त वर्ष 2018-2019 में 728.72 मिलियन टन की तुलना में वित्त वर्ष 2022-23 में भारत के कुल कोयला उत्पादन में लगभग 22.6 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 893.08 मिलियन टन का उत्पादन हुआ। प्रतिस्थापन योग्य कोयले के आयात पर निर्भरता कम करने के लिए घरेलू कोयला उत्पादन को बढ़ाना कोयला मंत्रालय की प्राथमिकता है।

AD DESCRIPTION R.O. No.12697/ 111

पिछले 5 वर्षों में कोल इंडिया लिमिटेड (सीआईएल-CIL) का उत्पादन वित्त वर्ष 2018-2019 में 606.89 मिलियन टन की तुलना में 15.9 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 703.21 मिलियन टन बढ़ा है। एससीसीएल ने वित्त वर्ष 2018-19 में 64.40 मिलियन टन से 4.3 प्रतिशत की वृद्धि के साथ वित्त वर्ष 2022-23 में 67.14 मिलियन टन उत्पादन कर प्रभावशाली वृद्धि दर्ज की है। कैप्टिव और अन्य खदानों ने भी 113.7 प्रतिशत की वृद्धि के साथ वित्त वर्ष 2022-23 में 122.72 मिलियन टन उत्पादन दर्ज किया है, जो वित्त वर्ष 2018-19 में 57.43 मिलियन टन था।

कोयला मंत्रालय ने सभी क्षेत्रों की मांग को पूरा करने और ताप विद्युत संयंत्रों में कोयले का पर्याप्त स्टॉक सुनिश्चित कर आत्मनिर्भरता प्राप्त करने के लिए घरेलू कोयला उत्पादन में तेजी लाने के लिए कई उपाय शुरू किए हैं। कोयला उत्पादन में असाधारण वृद्धि ने देश की ऊर्जा सुरक्षा का मार्ग प्रशस्त किया है। वित्त वर्ष 2023- 2024 के लिए निर्धारित वार्षिक कोयला उत्पादन का लक्ष्य 1012 मिलियन टन है।

इसके अलावा, कोयला मंत्रालय पर्यावरण संरक्षण, संसाधन संरक्षण, सामाजिक कल्याण और हमारे वनों और जैव विविधता को संरक्षित करने के उपायों पर जोर देकर कोयला उत्पादन के साथ सतत विकास को बढ़ावा देने में सक्रिय रूप से कार्यरत है। कोयला मंत्रालय ने खानों में कोयले के सड़क से ढुलाई को समाप्त करने के लिए एक एकीकृत दृष्टिकोण विकसित करने के लिए एक रणनीति तैयार की है और ‘फर्स्ट माइल कनेक्टिविटी’ परियोजनाओं के तहत मशीनीकृत कोयला ढुलाई और लोडिंग सिस्टम को अपग्रेड करने के लिए कदम उठाए हैं।