Suchnaji

Big Breaking : खड़ी एक्सप्रेस से भीड़ी मालगाड़ी, मरने वालों की बढ़ते जा रही संख्या, रेस्क्यू में जुटा रेलवे, देखिए हवा में लटकी बोगी की भयावह तस्वीरें

Big Breaking : खड़ी एक्सप्रेस से भीड़ी मालगाड़ी, मरने वालों की बढ़ते जा रही संख्या, रेस्क्यू में जुटा रेलवे, देखिए हवा में लटकी बोगी की भयावह तस्वीरें

-फिलहाल 15 से ज्यादा मौत और 50 से अधिक घायलों की पुष्टि
-दो लोको पायलट, एक गार्ड सहित 15 के शव बरामद
-NDRF, SDRF, स्टेट और रेलवे का अमला तैनात

सूचनाजी न्यूज, कोलकाता। इस वक्त दुखद खबर निकल कर आ रही है। पश्चिम बंगाल में बड़ा रेल हादसा हो गया है। खड़ी एक्सप्रेस से मालगाड़ी जा भीड़ी, जिससे कई यात्री अपनी जान गंवा चुके है। कइयों के घालय होने की सूचना मिल रही है। फिलहाल राहत और बचाव कार्य जारी है। हेल्पलाइन नंबर, सहायता राशि, मुआवजे का ऐलान कर दिया गया है।

AD DESCRIPTION
बंगाल में हादसे के बाद हवा में लटकती कंचनजंगा एक्सप्रेस की बोगी।
बंगाल में हादसे के बाद हवा में लटकती कंचनजंगा एक्सप्रेस की बोगी।

सूचना मिल रही है कि केन्द्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव घटना स्थल के लिए रवाना हो चुके है। दुर्घटना की तस्वीरें भयावह है। एक्सप्रेस की तीन बोगियां बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई है। मालगाड़ी की टक्कर के बाद एक्सप्रेस का एक डिब्बा हवा में लटक गया।

पश्चिम बंगाल के जलपाईगुड़ी के पास खड़ी कंचनजंगा एक्सप्रेस के पीछे से एक मालगाड़ी ने टक्कर मार दी। दुर्घटना की जानकारी मिलते ही रेलवे अमला रेस्क्यू में जुट गया है। केन्द्रीय रेलमंत्री अश्विनी वैष्णव घटना स्थल के लिए रवाना हो चुके है। इसके साथ ही 60 अधिक घायलों के लिए 50 हजार रुपए की सहायता राशि का ऐलान कर दिया गया है। 15 से अधिक मृतकों के परिजनों के लिए दो-दो लाख रुपए मुआवजे का ऐलान कर दिया गया है।

हादसे के बाद क्षतिग्रस्त कंचनजंगा एक्सप्रेस के डिब्बे।
हादसे के बाद क्षतिग्रस्त कंचनजंगा एक्सप्रेस के डिब्बें।

 

इस हादसे के बाद रेलवे प्रशासन ने हेल्पलाइन नंबर जारी कर दिया है। रेलवे ने कहा कि 033-23833326 और 033-23508794 नंबर पर कॉल कर अपने परिजनों से संबंधित जानकारी हासिल कर सकते है।

हम आपको बता दें कि अगरतला से सियालदाह जा रही कंचनजंगा एक्सप्रेस (13174) को पीछे से मालगाड़ी ने टक्कर मार दी। इस हादसे के बाद कंचनजंगा एक्सप्रेस की तीन बोगियों को काफी नुकसान हुआ है। इन तीन बोगियों में मृतकों की संख्या सबसे अधिक है।