Suchnaji

निजीकरण से बचाने का एकमात्र रास्ता SAIL में FSNL का विलय, SEFI ने झोंकी ताकत

निजीकरण से बचाने का एकमात्र रास्ता SAIL में FSNL का विलय, SEFI ने झोंकी ताकत
  • राष्ट्रहित में फेरो स्क्रैप निगम लिमिटेड का सेल में रणनीतिक विलय ही एक मात्र समाधान।

सूचनाजी न्यूज, भिलाई। फेरो स्क्रैप निगम लिमिटेड-एफएसएनएल पर संकट के बादल छाए हुए हैं। इसको बचाने की हर तरफ से कोशिश की जा रही है। सार्वजनिक इस्पात क्षेत्र के उपक्रमों के अधिकारियों का अपेक्स संगठन सेफी प्रारंभ से ही सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के अंधाधुंध निजीकरण एवं विनिवेश के स्थान पर, पुर्नगठन तथा रणनीतिक समायोजन पर जोर देता रहा है।

ये खबर भी पढ़ें : मजदूरों की कहीं नहीं सुनवाई, मेहनताना लेने कलेक्टर के पास पहुंचे, इन्हें चाहिए बढ़ी पेंशन

AD DESCRIPTION

सेफी ने केन्द्र सरकार से आग्रह किया है कि विनिवेश किये जाने वाले इन इकाईयों की क्षमता पर गंभीरतापूर्वक विचार किया जाए तो इन इकाईयों के अलग-अलग क्षमताओं तथा उपलब्ध संसाधनों को मिलाकर एक लाभकारी रणनीति बनाई जा सकती है जिसमें इन इकाईयों को विनिवेश की आवश्यकता नहीं होगी।

ये खबर भी पढ़ें : Bhilai Steel Plant के GM इंफोर्समेंट केके यादव को धमकी देने कब्जेदार पहुंच गए घर, होगी FIR, पुलिस ने बढ़ाई सुरक्षा

विदित हो कि सेफी ने नई दिल्ली में दिनांक 04.04.2021 को आयोजित सेफी काउंसिल की बैठक में इस्पात क्षेत्र के सार्वजनिक उपक्रमों के रणनीतिक विलय हेतु संकल्प पारित किया था। जिससे सेफी से संबद्ध इस्पात मंत्रालय के अधीन उपक्रम सेल, आर.आई.एन.एल., नगरनार इस्पात संयंत्र, एन.एम.डी.सी., मेकॉन, एफएसएनएल आदि का रणनीतिक विलय कर इस्पात मंत्रालय के अंतर्गत एक मेगा स्टील पीएसयू का गठन किया जा सके।

ये खबर भी पढ़ें : Breaking News: जीवन प्रमाण पत्र जमा नहीं, 19934 पेंशनभोगियों की ईपीएस 95 पेंशन पर रोक

इस्पात मंत्री से भी हो चुकी है चर्चा

एनसीओए पदाधिकारियों ने 01.07.2024 को इस्पात मंत्री एच.डी. कुमारस्वामी से मिलकर आरआईएनएल, एनआईएसपी व एफएसएनएल के विनिवेश की जगह सार्वजनिक उपक्रमों के रणनीतिक विलय/साझेदारी हेतु चर्चा की थी।

ये खबर भी पढ़ें : SAIL BSP Accident: 12 घंटे के भीतर दुनिया की सबसे लंबी रेल पटरी का प्रोडक्शन शुरू, देखिए हादसे का वीडियो

फेरो स्क्रैप निगम के निजीकरण का निर्णय

इसी क्रम में फेरो स्क्रैप निगम लिमिटेड जो कि इस्पात क्षेत्र के सार्वजनिक उपक्रमों के साथ अनेक परियोजनाओं में भागीदार है तथा पूर्व में केन्द्र शासन के द्वारा इस कंपनी का विलय सेल अथवा आर.आई.एन.एल. में किये जाने के प्रस्ताव पारित किया गया। परंतु वर्तमान में केन्द्र शासन ने फेरो स्क्रैप निगम के निजीकरण का निर्णय लिया है जिससे इस उपक्रम के कार्मिकों में अत्यंत रोष व्याप्त है।

ये खबर भी पढ़ें : 10 जुलाई को पता चलेगा FSNL का नया मालिक कौन, SAIL में फैला है जाल

एफएसएनएल का मुख्यालय भिलाई में

विदित हो कि फेरो स्क्रैप निगम लिमिटेड इस्पात मंत्रालय के अधीनस्थ एक सरकारी उपक्रम है जिसका मुख्यालय भिलाई छत्तीसगढ़ में है। यह संस्था मुख्यतः सरकारी स्टील उपक्रमों जैसे सेल, आरआईएनएल एवं एनएमडीसी जैसे उपक्रमों में स्क्रैप प्रोसेसिंग का कार्य करती है।

ये खबर भी पढ़ें : श्रम एवं रोजगार मंत्रालय ने राज्य सरकारों की रिपोर्ट NHRC को भेजी, Amazon के श्रमिकों का भी जिक्र

फेरो स्क्रैप निगम लिमिटेड जो कि अपने स्थापना वर्ष सन् 1979 से ही लगातार आज तक कभी भी घाटे मे नही रही है और सिर्फ विगत तीन वर्षों में ही लगभग 194 करोड़ रुपये का लाभ अर्जित कर चुका है। वर्तमान में एफएसएनएल के पास लगभग 150 करोड़ रुपये का रिज़र्व है।

आने वाले दो वर्षों के लिए लगभग रु 1000 करोड़ से अधिक मूल्य का कार्य आदेश एफएसएनएल के पास है, जिसे पूर्ण करने के पश्चात कई सौ करोड़ों रुपये का शुद्ध लाभ होना तय है।

ये खबर भी पढ़ें : ESIC और Employees Provident Fund Organization पर बाहर आई अंदर की बात

जानिए कब-कब क्या हुआ…

वर्ष 2008 में जेपी शुक्ला समिति ने उपक्रम की उपयोगिता और महत्ता को देखते हुए विनिवेश न करने का निर्णय लिया था। इसके पश्चात वर्ष 2017-18 में अंतर मंत्रालय समूह (आईएमजी) के अनुशंसा के आधार पर पीएमओ ने एफएसएनएल का विनिवेश न करने का निर्णय लिया था।

ये खबर भी पढ़ें : बोकारो इस्पात संयंत्र से बड़ी खबर, ब्लास्ट फर्नेस के वाटर टनल में उतरे DIC, दी ये सौगात

स्टील स्क्रैप का नियंत्रण निजी हाथों में चला जाएगा

सेफी अध्यक्ष ने बताया कि एफएसएनएल के निजीकरण से सेल, एनएमडीसी, आरआईएनएल जैसे सरकारी उपक्रमों में स्टील स्क्रैप का नियंत्रण निजी हाथों में चला जाएगा, जिससे लौह स्क्रैप जैसे बहुमूल्य धातु की चोरी होने की सम्भावना बढ़ जाएगी। साथ ही स्क्रैप माफिया एवं बिचौलियों के लिए सरकारी इस्पात संयंत्रों में घुसपैठ के अवसर उपलब्ध हो जाएंगे, जिससे राष्ट्रीय संपत्ति का नुकसान होगा।

एफएसएनएल के विनिवेश से सरकार को क्षति होगी, अपितु इससे सरकारी इस्पात संयंत्रों को भी प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से क्षति होगी।

ये खबर भी पढ़ें : Rath Yatra Fair 2024: पुरी में प्रभु जगन्नाथ का दर्शन करने वालों की प्यास बुझाएगा राउरकेला स्टील प्लांट

सांसदों और इस्पात राज्यमंत्री से भी मिल चुके

सेफी अध्यक्ष नरेन्द्र बंछोर के नेतृत्त्व में सेफी पदाधिकारियों तथा एफएसएनएल एग्जीक्यूटिव के पदाधिकारियों ने दिल्ली में केन्द्रीय इस्पात राज्य मंत्री भूपतिराजू श्रीनिवास वर्मा, केन्द्रीय आवास एवं शहरी कार्य राज्यमंत्री तोखन साहू, दुर्ग सांसद विजय बघेल, अनकापल्ली सांसद सी.एम.रमेश एवं राजनांदगांव सांसद संतोष पाण्डेय से मुलाकात कर एफएसएनएल तथा अन्य सरकारी सयंत्रो आरआईएनएल, एनएमडीसी के निजीकरण के स्थान पर सेल में विलय कर सेफी के मेगा मर्जर के प्रस्ताव को कार्यान्वित करने का अनुरोध किया।

सेफी को उम्मीद है कि राष्ट्रहित में केन्द्र शासन सार्वजनिक क्षेत्र के इस्पात संयंत्रों का निजीकरण के स्थान पर इनके पुर्नगठन व रणनीतिक विलय कर इसका सुनियोजित संचालन हेतु प्रयास करेगा।

ये खबर भी पढ़ें : Rath Yatra 2024: महाप्रभु का नेत्र उत्सव में दिखा नवयौवन रूप, रथयात्रा के लिए श्री जगन्नाथ तैयार