Suchnaji

SECL NEWS: सीएमडी डॉ. प्रेम सागर मिश्रा को मिला Performance Excellence Award 2024

SECL NEWS: सीएमडी डॉ. प्रेम सागर मिश्रा को मिला Performance Excellence Award 2024
  • कोयलांचल के हरित विकास को प्रगति देते हुए एसईसीएल द्वारा वर्ष 23-24 में 475 हेक्टेयर के क्षेत्र में रिकॉर्ड 10.77 लाख पौधे लगाए गए जो कोल इंडिया कि सभी अनुषंगी कंपनियों में सर्वाधिक है।

सूचनाजी न्यूज, बिलासपुर। इंडियन इंस्टीट्यूशन ऑफ इंडस्ट्रियल इंजीनियरिंग (Indian Institution of Industrial Engineering) (IIIE) द्वारा एसईसीएल व सीएमडी डॉ प्रेम सागर मिश्रा को परफॉर्मेंस एक्सीलेंस अवार्ड 2024 से सम्मानित किया गया है।

ये खबर भी पढ़ें : रायपुर रेल मंडल के दर्जनों कर्मचारी एक साथ रिटायर, मिला पेंशन भुगतान आदेश

AD DESCRIPTION

31 मई 2024 को मसूरी में आयोजित 24वीं सीईओ कॉन्फ्रेंस के दौरान कोयला उद्योग में उत्कृष्ट कार्यनिष्पादन एवं राष्ट्र निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान देने के लिए एसईसीएल व सीएमडी डॉ प्रेम सागर मिश्रा को इस अवार्ड से सम्मानित किया गया।

ये खबर भी पढ़ें : Railway News: बिलासपुर और रायपुर-टिटलागढ़ पैसेंजर ट्रेन कैंसिल, इंदौर-पुरी एक्सप्रेस का बदला समय

विदित हो कि सीएमडी डॉ प्रेम सागर मिश्रा के प्रेरक नेतृत्व में एसईसीएल ने वित्त वर्ष 23-24 में लगातार दूसरे वर्ष 20 मिलियन टन की एतेहासिक वृद्धि के साथ अपने इतिहास का सर्वाधिक 187 मिलियन टन कोयला उत्पादन दर्ज किया है।

ये खबर भी पढ़ें : Railway News: बिलासपुर और रायपुर-टिटलागढ़ पैसेंजर ट्रेन कैंसिल, इंदौर-पुरी एक्सप्रेस का बदला समय

वित्तीय वर्ष 23-24 में एसईसीएल ने 180.5 मिलियन टन कोयला उपभोक्ताओं को प्रेषित किया जिसमें सर्वाधिक 147.8 मिलियन टन कोयला देश के विद्युत संयंत्रों को भेजा गया, यह किसी एक वर्ष में कम्पनी द्वारा पावर सेक्टर को दिया गया सर्वाधिक डिस्पैच है।

ये खबर भी पढ़ें : NPS और Mutual Funds में बेहतर कौन, यहां रिटायरमेंट के बाद ले सकते हैं कॉर्पस का एक हिस्सा

इसके साथ ही भूविस्थापितों के हितों का ध्यान रखते हुए एसईसीएल ने भूमि अधिग्रहण के प्रकरणों में वर्ष 23-24 में एसईसीएल ने कुल 707 भूविस्थापितों को रोजगार स्वीकृत किए जो कि पिछले एक दशक में सर्वाधिक है। सीएसआर के तहत कंपनी द्वारा शिक्षा, स्वास्थ्य, पोषण आदि से जुड़ी विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं के ऊपर 50 करोड़ से अधिक का व्यय किया गया।

ये खबर भी पढ़ें : ग्रेच्युटी, पेंशन प्रणाली, सातवें केंद्रीय वेतन आयोग की सिफारिश पर बड़ी खबर

एसईसीएल द्वारा सीएसआर अंतर्गत “एसईसीएल के सुश्रुत” योजना की शुरुआत की गई जिसके तहत छत्तीसगढ़ एवं मध्यप्रदेश में स्थित कंपनी के संचालन क्षेत्रों के 30 बच्चों का चयन कर उनको निशुल्क आवासीय नीट-मेडिकल कोचिंग दी जा रही है। वहीं कोयलांचल के हरित विकास को प्रगति देते हुए एसईसीएल द्वारा वर्ष 23-24 में 475 हेक्टेयर के क्षेत्र में रिकॉर्ड 10.77 लाख पौधे लगाए गए जो कोल इंडिया कि सभी अनुषंगी कंपनियों में सर्वाधिक है।

ये खबर भी पढ़ें : SAIL नाइट शिफ्ट एलाउंस के साथ गले फंसा बायोमैट्रिक, INTUC ने कहा-फुल NJCS में पलटेंगे फैसला